नए रूप रंग के साथ अपने प्रिय ब्‍लॉग पर आप सबका हार्दिक स्‍वागत है !

ताज़ा प्रविष्ठियां

संकल्प एवं स्वागत्

ज्योतिष निकेतन संदेश हिन्‍दी की मासिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित लेख इस ब्लॉग पर जीवन को सार्थक बनाने हेतु आपके लिए समर्पित हैं। आप इसके पाठक हैं, इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे। हमें विश्‍वास है कि आप सब ज्योतिष, हस्तरेखा, अंक ज्योतिष, वास्तु, अध्यात्म सन्देश, योग, तंत्र, राशिफल, स्वास्थ चर्चा, भाषा ज्ञान, पूजा, व्रत-पर्व विवेचन, बोधकथा, मनन सूत्र, वेद गंगाजल, अनुभूत ज्ञान सूत्र, कार्टून और बहुत कुछ सार्थक ज्ञान को पाने के लिए इस ब्‍लॉग पर आते हैं। ज्ञान ही सच्चा मित्र है और कठिन परिस्थितियों में से बाहर निकाल लेने में समर्थ है। अत: निरन्‍तर ब्‍लॉग पर आईए और अपनी टिप्‍पणी दीजिए। आपकी टिप्‍पणी ही हमारे परिश्रम का प्रतिफल है।

रविवार, मई 01, 2011

सफलता हेतु समय का प्रबन्‍धन सीखना ही होगा!


                                  

        महान वैज्ञानिक एडीसन का कथन है-समय संसार की सबसे अधिक मूल्‍यवान वस्‍तु है। यदि समय मूल्‍यवान है तो हम जितना धन खर्च करने में सावधानी रखते हैं उससे कहीं अधिक समय व्‍यतीत करने में भी करनी चाहिए।
    जब से समय को नापा जाने लगा है तब से हमारे पास भी यह शिकायत करने को है कि मेरे पास समय ही नहीं है या अब तो चौबीस घंटे भी कम पड़ने लगे हैं। समय किसी को नहीं मिलता है, समय तो निकालना पड़ता है।
    कोई भी जीवन में सफल होना चाहता है तो उसे समय का प्रबन्‍धन करना आना चाहिए। सर्वाधिक सफल लोग जीवन में समय का अपव्‍यय नहीं होने देना चाहते हैं।
    लोग धन का बजट बनाकर खर्च करते हैं जिससे आय में ही व्‍यय हो सके या यूं कह लीजिए धन का प्रबन्‍धन कर आय बढ़ाते हैं या बचत करने का सूत्र पा जाते हैं।
    इसी प्रकार प्रत्‍येक व्‍यक्ति को समय का बजट बनाना चाहिए जिससे उसका अपव्‍यय रुक सके और उसका प्रबन्‍धन हो और सफल होने के लिए अधिक समय मिले। समय के बजट से सर्वाधिक समय निरर्थक होने की अपेक्षा सार्थक हो सकेगा।
    एक दिन पूर्व अर्थात् कल की समय सारिणी आज बनाइए और फिर रात्रि में अगले दिन की पुन: समय-सारिणी बनाईए और पूर्व दिन या बीते हुई समय-सारिणी पर टिप्‍पणी लिखकर देखें कि क्‍या हो गया और क्‍या होना है और फिर अगली समय-सारिणी में उसे शामिल कीजिए जो नहीं हो सका है। इस टिप्‍पणी में यह भी विचार कर लिख सकते हैं कि कितना समय कहां व्‍यर्थ किया या उसका अपव्‍यय किया और अगली समय-सारिणी में उसके प्रबन्‍धन के लिए स्‍वयं पर लगाम लगाते हुए यह निश्‍चय कीजिए कि किस प्रकार समय के अपव्‍यय से बचेंगे। इस प्रक्रिया को जारी रखेंगे तो धीरे-धीरे समय का प्रबन्‍ध होने लगेगा और इस प्रयास में समय का अपव्‍यय भी बचेगा और सार्थक समय में वृद्धि होगी।
    काम का पहली बार में ही पूरा करें, यह हो सकता है जब आप योजना बनाकर कार्य करते हैं। योजनाबद्ध ढंग से कार्य करने पर उसे बार-बार करने की आवश्‍यकता नहीं पड़ती है। इससे समय की बचत होती है और अमूल्‍य समय की सार्थकता बढ़ाने का अवसर मिलता है।
    यदि आपके पास बचाए गए समय में कार्य करने को नहीं है तो कोई ऐसी रुचि को ग्रहण कर लें जिसमें आप ज्ञानवर्धन कर सकें। यह हो सकता है कि यह ज्ञान प्रारम्‍भ में आपको उपयोगी न लगे। लेकिन यह जान लें कि ज्ञान और अनुभवों का संग्रह करना बिल्‍कुल वैसा है जैसे बैंक में धन जमा करना। जीवन ऐसा अवसर अवश्‍य देता है जब आप इस ज्ञान को व्‍यवहार में लाकर ब्याज सहित सब कुछ वसूल कर लेंगे और ज्ञानार्जन में लगाया समय व्‍यर्थ नहीं जाएगा। कहने का तात्‍पर्य यह है कि समय की बचत से उसका उपयोग कहीं भी करके उसे सार्थक बना सकते हैं। समय की सार्थकता समझेंगे तो समय आपको सबकुछ देगा बस बात इतनी है कि आप समय की बचत के साथ-साथ उसका प्रबन्‍धन किस प्रकार करते हैं। समय की बचत और उसका प्रबन्‍धन वरदान में सफलता देती है। अत: सफलता हेतु समय का प्रबन्‍धन सीखना ही होगा!

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्‍पणी देकर अपने विचारों को अभिव्‍यक्‍त करें।

पत्राचार पाठ्यक्रम

ज्योतिष का पत्राचार पाठ्यक्रम

भारतीय ज्योतिष के एक वर्षीय पत्राचार पाठ्यक्रम में प्रवेश लेकर ज्योतिष सीखिए। आवेदन-पत्र एवं विस्तृत विवरणिका के लिए रु.50/- का मनीऑर्डर अपने पूर्ण नाम व पते के साथ भेजकर मंगा सकते हैं। सम्पर्कः डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर' ज्योतिष निकेतन 1065/2, शास्त्री नगर, मेरठ-250 005
मोबाईल-09719103988, 01212765639, 01214050465 E-mail-jyotishniketan@gmail.com

पुराने अंक

ज्योतिष निकेतन सन्देश
(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक)
स्टॉक में रहने तक मासिक पत्रिका के प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम, षष्‍ठ एवं सप्‍तम वर्ष के पुराने अंक 1920 पृष्ठ, सजिल्द, गूढ़ ज्ञान से परिपूर्ण और संग्रहणीय हैं। सातों पुस्तकें पत्र लिखकर मंगा सकते हैं। आप रू.1950/-का ड्राफ्‌ट या मनीऑर्डर डॉ.उमेश पुरी के नाम से बनवाकर ज्‍योतिष निकेतन, 1065, सेक्‍टर 2, शास्‍त्री नगर, मेरठ-250005 के पते पर भेजें अथवा उपर्युक्त राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अकाउंट नं. 32227703588 डॉ. उमेश पुरी के नाम में जमा करा सकते हैं। पुस्तकें रजिस्टर्ड पार्सल से भेज दी जाएंगी। किसी अन्य जानकारी के लिए नीचे लिखे फोन नं. पर संपर्क करें।
ज्‍योतिष निकेतन, मेरठ
0121-2765639, 4050465 मोबाईल: 09719103988

विज्ञापन