नए रूप रंग के साथ अपने प्रिय ब्‍लॉग पर आप सबका हार्दिक स्‍वागत है !

ताज़ा प्रविष्ठियां

संकल्प एवं स्वागत्

ज्योतिष निकेतन संदेश हिन्‍दी की मासिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित लेख इस ब्लॉग पर जीवन को सार्थक बनाने हेतु आपके लिए समर्पित हैं। आप इसके पाठक हैं, इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे। हमें विश्‍वास है कि आप सब ज्योतिष, हस्तरेखा, अंक ज्योतिष, वास्तु, अध्यात्म सन्देश, योग, तंत्र, राशिफल, स्वास्थ चर्चा, भाषा ज्ञान, पूजा, व्रत-पर्व विवेचन, बोधकथा, मनन सूत्र, वेद गंगाजल, अनुभूत ज्ञान सूत्र, कार्टून और बहुत कुछ सार्थक ज्ञान को पाने के लिए इस ब्‍लॉग पर आते हैं। ज्ञान ही सच्चा मित्र है और कठिन परिस्थितियों में से बाहर निकाल लेने में समर्थ है। अत: निरन्‍तर ब्‍लॉग पर आईए और अपनी टिप्‍पणी दीजिए। आपकी टिप्‍पणी ही हमारे परिश्रम का प्रतिफल है।

गुरुवार, अप्रैल 28, 2011

सफलता से अधिक सुख को प्राथमिक समझें!




        सफलता से तात्‍पर्य धन एकत्र करना नहीं है। इसी प्रकार लेखक बन जाना, बड़ा पद पा लेना, प्रसिद्ध अभिनेता या स्‍टार बनना, बड़ी नौकरी पा लेना, नेता या मन्‍त्री बन जाना, प्रसिद्ध खिलाड़ी बनकर वाहवाही लूटना और नई खोज कर लेना आदि नहीं है। सफलता लक्ष्‍य को पा लेना भर नहीं है, यह उससे ऊपर है। ऐसे असंख्‍य लोग है जो धन अर्जन या एकत्र करने के लिए अपने सभी आराम, आमोद-प्रमोद आदि सभी प्राथमिक कार्यों को त्‍याज्‍य देते हैं और उनका लक्ष्‍य ढेर सा धन एकत्र करना होता है।
    बहुत लोग ऐसे होते हैं जो अपना साध्‍य या मंजिल तो पा लेते हैं पर वहां तक पहुंचते-पहुंचते सभी अपनों को खो बैठते हैं और सफलता के सर्वोच्‍च शिखर पर वे होते हैं मात्र अकेले और उनका ऐसे में जीवन के प्रति उनका उत्‍साह समाप्‍त हो चुका होता है। अपने-अपने क्षेत्र में सफलता पाने वालों को सदैव यह मलाल रहता है कि ख्‍याति, सत्ता और सम्‍पत्ति हेतु निज सुख की उन्‍होंने बलि दी है।
    ऐसा नहीं होता यदि हम जीवन में बड़ी सफलता को पाने के लिए जो प्रयास कर रहे हैं उस मार्ग में यदि छोटी-छोटी सफलताओं को भी पाने का अवसर देते रहें। यहां छोटी-छोटी सफलताओं से तात्‍पर्य यह है कि परिवार, मित्रों एवं सहकर्मियों व सहयोगियों से प्रेम, स्‍नेह व आदर बनाए रखने से है। मित्रों की संख्‍या भी बढ़ानी चाहिए। यह जान लें कि मित्र धन देने से ही नहीं बल्कि दूजों की प्रशंसा करके, उपहार देकर या उनका प्रोत्‍साहन या उनको प्रेरणा देकर भी बनाए जाते हैं। सुख सहित सफलता पाने के लिए सफलता के विस्‍तार के साथ मित्रों की संख्‍या भी बढ़ानी चाहिए। यदि आप अपनी सफलता मिल-बांटकर ग्रहण करना सीख लें तो आपको कभी अकेलापन महसूस नहीं होगा और आप मित्रों से मिलने वाले आनन्‍द को पा सकेंगे। यदि आप सफल होकर भी अकेले हैं तो आपने अपने आसपास रहने वालों के मध्‍य की खाइयों को पाटने के लिए पुल बनाने की अपेक्षा दीवारें खड़ी कर लीं हैं। ऐसा इस लिए भी होता है कि मित्र तो हम बना लेते हैं पर उसे निभाना नहीं जानते या निभाना नहीं चाहते हैं।
    सही मायने में हम धन को सुख का कारण समझ लेते हैं। जबकि ऐसा नहीं है, धन तो परेशानी का कारण बन जाता है, धन आते ही असन्‍तोष एवं शत्रु बढ़ जाते हैं, अपने ही पराए बन जाते हैं, यदि आप उनका ध्‍यान नहीं रखते हैं तो। धन कमाने की चिन्‍ता और धन आने के बाद उसे संभालने की चिन्‍ता एक दूजे में लिप्‍त रहती है। धन को सुख का कारण समझना अनुचित है। मूलत: दु:ख का कारण लोभ, चिन्‍ता, ईर्ष्‍या और सन्‍देह हैं। जबकि सुख का मूल कारण है-सन्‍तोष एवं उदारता।
    सुख उदार एवं सन्‍तोषी होने से बढ़ता है। यह जान लें कि असन्‍तोष व्‍यक्ति को कहीं का नहीं रखता, उसका सबकुछ नष्‍ट कर देता है। सन्‍तोषी सदैव देकर खुश रहता है और जो मिलता है उसे ईश्‍वर का आभार समझकर प्रसन्‍न रहता है। असन्‍तोषी लोग महत्त्वकांक्षी एवं लोभी होते हैं, उन्‍हें जो मिल जाता है उसे गिनते नहीं और जो नहीं मिलता उसे पाने की होड़ में पागलों की तरह जुटे रहते हैं।     
    सफल होने की राह में जब आप अपने हमराही ईश्‍वर, दया, परोपकार एवं उदारता को बनाएंगे तो आपे असन्‍तोषी एवं उद्विग्‍न नहीं होंगे क्‍योंकि तब आपको फल की चिन्‍ता नहीं होगी, आप तो कर्मपथ के दीवाने होंगे।
    सफलता सदैव देश, काल और स्‍थान की परिस्थितियों पर निर्भर करती है, जबकि सुख सर्वथा आप पर निर्भर करता है। यदि फिर भी आपकी सोच कुछ ओर हो तो सदैव इस बात को ध्‍यान रखें-जीवन में भौतिक स्‍तर इतना महत्त्वपूर्ण नहीं है जितना की मानसिक-स्‍तर। सफलता सिर्फ भौतिक स्‍तर उठाती है जबकि सन्‍तोष से मानसिक-स्‍तर उठता है। इसलिए हमारा यह कहना है कि सफलता से अधिक सुख को प्राथमिक समझें!

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्‍पणी देकर अपने विचारों को अभिव्‍यक्‍त करें।

पत्राचार पाठ्यक्रम

ज्योतिष का पत्राचार पाठ्यक्रम

भारतीय ज्योतिष के एक वर्षीय पत्राचार पाठ्यक्रम में प्रवेश लेकर ज्योतिष सीखिए। आवेदन-पत्र एवं विस्तृत विवरणिका के लिए रु.50/- का मनीऑर्डर अपने पूर्ण नाम व पते के साथ भेजकर मंगा सकते हैं। सम्पर्कः डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर' ज्योतिष निकेतन 1065/2, शास्त्री नगर, मेरठ-250 005
मोबाईल-09719103988, 01212765639, 01214050465 E-mail-jyotishniketan@gmail.com

पुराने अंक

ज्योतिष निकेतन सन्देश
(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक)
स्टॉक में रहने तक मासिक पत्रिका के प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम, षष्‍ठ एवं सप्‍तम वर्ष के पुराने अंक 1920 पृष्ठ, सजिल्द, गूढ़ ज्ञान से परिपूर्ण और संग्रहणीय हैं। सातों पुस्तकें पत्र लिखकर मंगा सकते हैं। आप रू.1950/-का ड्राफ्‌ट या मनीऑर्डर डॉ.उमेश पुरी के नाम से बनवाकर ज्‍योतिष निकेतन, 1065, सेक्‍टर 2, शास्‍त्री नगर, मेरठ-250005 के पते पर भेजें अथवा उपर्युक्त राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अकाउंट नं. 32227703588 डॉ. उमेश पुरी के नाम में जमा करा सकते हैं। पुस्तकें रजिस्टर्ड पार्सल से भेज दी जाएंगी। किसी अन्य जानकारी के लिए नीचे लिखे फोन नं. पर संपर्क करें।
ज्‍योतिष निकेतन, मेरठ
0121-2765639, 4050465 मोबाईल: 09719103988

विज्ञापन