नए रूप रंग के साथ अपने प्रिय ब्‍लॉग पर आप सबका हार्दिक स्‍वागत है !

ताज़ा प्रविष्ठियां

संकल्प एवं स्वागत्

ज्योतिष निकेतन संदेश हिन्‍दी की मासिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित लेख इस ब्लॉग पर जीवन को सार्थक बनाने हेतु आपके लिए समर्पित हैं। आप इसके पाठक हैं, इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे। हमें विश्‍वास है कि आप सब ज्योतिष, हस्तरेखा, अंक ज्योतिष, वास्तु, अध्यात्म सन्देश, योग, तंत्र, राशिफल, स्वास्थ चर्चा, भाषा ज्ञान, पूजा, व्रत-पर्व विवेचन, बोधकथा, मनन सूत्र, वेद गंगाजल, अनुभूत ज्ञान सूत्र, कार्टून और बहुत कुछ सार्थक ज्ञान को पाने के लिए इस ब्‍लॉग पर आते हैं। ज्ञान ही सच्चा मित्र है और कठिन परिस्थितियों में से बाहर निकाल लेने में समर्थ है। अत: निरन्‍तर ब्‍लॉग पर आईए और अपनी टिप्‍पणी दीजिए। आपकी टिप्‍पणी ही हमारे परिश्रम का प्रतिफल है।

गुरुवार, अप्रैल 14, 2011

सफलता दिलाने वाले पांच अनमोल सूत्र



      सफल कौन नहीं होना चाहता है। यदि आप भी सफल होना चाहते हैं तो अपनाईए इन पांच अनमोल सूत्रों को!                            
 पहला सूत्र है कि जीवन में एक लक्ष्य बनाइए!
    लक्ष्यहीन जीवन व्यर्थ है! जब तक लक्ष्य नहीं है तब तक भटकाव है। सर्वप्रथम जीवन में अपना एक लक्ष्य बनाईए। लक्ष्य को पाने के लिए उसके अनुसार ज्ञान अर्जित कीजिए! ज्ञान अर्जित करने के लिए स्वाध्याय कीजिए। उन पुस्तकों का अध्ययन कीजिए जो आपके लक्ष्य के लिए सहयोगी हैं। प्रसिद्ध लोगों से भेंट कीजिए और उनके अनुभवों को जानिए। प्रसिद्ध और अपने क्षेत्र में सफल लोगों की जीवनी पढ़िए या उनकी आत्मकथा पढ़िए। इससे आपको जीवन में सफलता की प्रक्रिया के सूत्र मिलेंगे! एक प्रेरणा मिलेगी कि सफल होने के लिए क्या करना होगा, किन अवरोधों से गुजरते हुए उन्हें कैसे पार करना होगा!
    दूसरा सूत्र है कि समस्याओं की टीम के कप्तान बनिए!
    लक्ष्य बनाकर लक्ष्य तक पहुंचने के लिए कई समस्याओं का सामना करना पड़ेगा। समस्याओं को आता देखकर घबराएं नहीं। यह जान लें कि समस्या आप पर हावी होगी तो आप कदापि सफल नहीं हो पाएंगे और लक्ष्य को सिद्ध भी नहीं कर पाएंगे! सफलता तब आपको मिलेगी जब आप समस्या पर हावी हो जाएंगे। जीवन में आपको ही सबकुछ करना होगा, दूसरों से आशा न रखें और समस्याओं को एक अच्छे कप्तान के सदृश दूर करके मैच को जीत लें। कहने का मतलब है कि समस्याओं की टीम के कप्तान बनकर उनपर हावी हो जाईए और अपना लक्ष्य पूर्ण साहस और श्रम के साथ पा ही लीजिए।
    तीसरा सूत्र है कि गुड नहीं, बैटर नहीं सदैव बैस्ट बनिए!
    कोई भी एक दिन में बेस्ट यानि सर्वोत्तम नहीं बनता है। आप खराब से अच्छे हो सकने का प्रयास करते हैं, अच्छे से उत्तम बनने का और प्रयास कर सकते हैं एवं उत्तम से सर्वोत्तम बनने के लिए सर्वाधिक प्रयास कर सकते हैं। अच्छे से सर्वोत्तम बनने की एक प्रक्रिया होती है। बेस्ट यानि सर्वोत्तम बनने के लिए कई पड़ावों से गुजरना पड़ता है। सर्वप्रथम आपको अपना आदर्श तय करना होगा, फिर उस आदर्श के अनुरूप लक्ष्य बनाना होगा, लक्ष्य को पाने के लिए दृढ़निश्चय रखना होगा, उसे पाने के लिए जोखिम उठाना होगा और भरपूर प्रयास करना होगा। तब कहीं सफल होने पर सर्वोत्तम होने का मैडल मिलेगा।
    चौथा सूत्र है कि आपमें ये गुणत्रयी है-जिज्ञासा, सोचने की शक्ति, कठिन स्वाध्याय करने की इच्छा!
    उक्त तीनों गुण जिसमें होते हैं वही सफल होता है। प्रत्येक सफल व्यक्ति में ये गुणत्रयी होती है। आपमें जिज्ञासा होनी चाहिए यानि कि जानने की इच्छा होनी चाहिए। सोचने की शक्ति होनी चाहिए! ज्ञान प्राप्ति अर्थात्‌ स्वाध्याय करने के लिए कठिन परिश्रम करने की चाहत होनी चाहिए। प्रत्येक सफल व्यक्ति में ये गुण होते हैं! यदि आपने भी ये पा लिए तो आप भी उन सफल व्यक्तियों की पंक्ति में शामिल हो जाएंगे।
    पांचवा सूत्र है कि ईश्वर प्रदत्त अनमोल उपहार रूपी मस्तिष्क का उपयोग कीजिए!
    मनुष्य जीवों में सर्वोपरि है! क्यों? उसे ईश्वर ने सर्वोत्तम उपहार रूपी अनमोल मस्तिष्क जो दिया है। मनुष्य इसका उपयोग कम से कम करता है। सफल व्यक्ति इसका उपयोग सामन्य जन से अधिक करते हैं इसलिए वे सफल हैं! मस्तिष्क का कार्य है सोचना और सोचना विकास की निशानी है। जो सोचते हैं वे ही आदर्श स्थापित करते हैं! आदर्श स्थापित होने पर जीवन में लक्ष्य भी अच्छे बनते हैं।
    यदि आपने उक्त पांच सूत्रों को अपने जीवन में ढाल लिया तो कोई भी आपको सफलतम व्यक्तियों की सूची में आने से नहीं रोक सकता है। उठो, जागो और अपना लो ये पांच अनमोल सूत्र जीवन में सफल होने के लिए।

            
  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्‍पणी देकर अपने विचारों को अभिव्‍यक्‍त करें।

पत्राचार पाठ्यक्रम

ज्योतिष का पत्राचार पाठ्यक्रम

भारतीय ज्योतिष के एक वर्षीय पत्राचार पाठ्यक्रम में प्रवेश लेकर ज्योतिष सीखिए। आवेदन-पत्र एवं विस्तृत विवरणिका के लिए रु.50/- का मनीऑर्डर अपने पूर्ण नाम व पते के साथ भेजकर मंगा सकते हैं। सम्पर्कः डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर' ज्योतिष निकेतन 1065/2, शास्त्री नगर, मेरठ-250 005
मोबाईल-09719103988, 01212765639, 01214050465 E-mail-jyotishniketan@gmail.com

पुराने अंक

ज्योतिष निकेतन सन्देश
(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक)
स्टॉक में रहने तक मासिक पत्रिका के प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम, षष्‍ठ एवं सप्‍तम वर्ष के पुराने अंक 1920 पृष्ठ, सजिल्द, गूढ़ ज्ञान से परिपूर्ण और संग्रहणीय हैं। सातों पुस्तकें पत्र लिखकर मंगा सकते हैं। आप रू.1950/-का ड्राफ्‌ट या मनीऑर्डर डॉ.उमेश पुरी के नाम से बनवाकर ज्‍योतिष निकेतन, 1065, सेक्‍टर 2, शास्‍त्री नगर, मेरठ-250005 के पते पर भेजें अथवा उपर्युक्त राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अकाउंट नं. 32227703588 डॉ. उमेश पुरी के नाम में जमा करा सकते हैं। पुस्तकें रजिस्टर्ड पार्सल से भेज दी जाएंगी। किसी अन्य जानकारी के लिए नीचे लिखे फोन नं. पर संपर्क करें।
ज्‍योतिष निकेतन, मेरठ
0121-2765639, 4050465 मोबाईल: 09719103988

विज्ञापन