नए रूप रंग के साथ अपने प्रिय ब्‍लॉग पर आप सबका हार्दिक स्‍वागत है !

ताज़ा प्रविष्ठियां

संकल्प एवं स्वागत्

ज्योतिष निकेतन संदेश हिन्‍दी की मासिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित लेख इस ब्लॉग पर जीवन को सार्थक बनाने हेतु आपके लिए समर्पित हैं। आप इसके पाठक हैं, इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे। हमें विश्‍वास है कि आप सब ज्योतिष, हस्तरेखा, अंक ज्योतिष, वास्तु, अध्यात्म सन्देश, योग, तंत्र, राशिफल, स्वास्थ चर्चा, भाषा ज्ञान, पूजा, व्रत-पर्व विवेचन, बोधकथा, मनन सूत्र, वेद गंगाजल, अनुभूत ज्ञान सूत्र, कार्टून और बहुत कुछ सार्थक ज्ञान को पाने के लिए इस ब्‍लॉग पर आते हैं। ज्ञान ही सच्चा मित्र है और कठिन परिस्थितियों में से बाहर निकाल लेने में समर्थ है। अत: निरन्‍तर ब्‍लॉग पर आईए और अपनी टिप्‍पणी दीजिए। आपकी टिप्‍पणी ही हमारे परिश्रम का प्रतिफल है।

शनिवार, अप्रैल 09, 2011

ऑफिस में सफलता के नौ सूत्र -सत्यज्ञ


    जो लोग अपने कैरियर में सफल होते हैं वे विशेष बन जाते हैं और समस्त सुख-साधन एवं अधिकार पाते हैं। उनमें ऐसा क्या है जो वे सफल हो जाते हैं। सफलता का प्रथम सूत्र तो यही होता है कि हम सफल व्यक्तियों का अनुसरण करें या उनकी नकल।
     सफलता के नौ सूत्रों की चर्चा करते हैं, इनको अपनाने से और इन पर चलने से सफलता निश्चय ही मिलेगी। ये सूत्र इस प्रकार हैं-
1. अग्रणीय बनें!
     इसके लिए लीड लें। जब किसी कार्य को करने कोई भी आगे नहीं आ रहा है और हिचक रहा है तो इसके लिए आगे आने वाला व्यक्ति ही विजेता की भूमिका निभाता है। यदि आप आगे बढ़ रहे हैं तो यह ध्यान रखें कि अपने रूटीन कार्य को कभी न भुलाएं।
2. लक्ष्य बनाएं!
     मात्र कार्य करते रहने से आप कुएं के मेंढक बन जाएंगे। यदि लक्ष्य बनाकर कार्य करेंगे तो आपमें उसे पूरा करने का उत्साह रहेगा! यह जान लें कि कम्पनी के लक्ष्य को अपना लक्ष्य बना लेने से सुपरिणाम ही मिलते हैं।
3. कार्य की प्राथमिकता तय करें!
     ऐसा करने से आप टीम में कार्य बांटकर अपना कार्यभार भी कम कर सकते हैं। यदि आपके पास टीम नहीं है तो ऐसे में कार्य की प्राथमिकता तय करना अत्यावश्यक है। कार्य की प्राथमिकता समझकर जो कार्य अधिक आवश्यक हो तो उसे पहले करें और उसी क्रम से शेष कार्य करें।
4. ऑफिस में व्यवहार ठीक रखें!
     ऑफिस में प्रोफेशनल, सकारात्मक एवं सहानुभूति पूर्वक व्यवहार करने वाले सफल रहते हैं। अच्छा व्यवहार सदैव आपको लोकप्रिय बनाता है और आपके इस व्यवहार से ही आप कठिन से कठिन कार्य भी सबके सहयोग से आसानी से पूरे कर लेते हैं।
5. किसी भी परिस्थिति में आपे से बाहर न हों!
     कहने का तात्पर्य यह है कि आपके सम्मुख किसी भी प्रकार की परिस्थित उत्पन्न हो जाए, एकदम अपना आपा न खोएं! सर्वप्रथम परिस्थिति को समझें और दूसरों की भी सुनें। किसी भी प्रकार की परिस्थिति या परेशानी में स्वयं पर संयम रखना आवश्यक है! आपे से बाहर होने से, असंयमित व्यवहार, तुरन्त गुस्से में आ जाने से काम बनना भी हो तो नहीं बनता है।
6. सहयोग की भावना रखें!
     आप अच्छे कार्यकर्त्ता नहीं बन सकते हैं, यदि आपमें सहयोग भावना नहीं है। जिसमें सहयोग भावना नहीं है उसमें अच्छा लीडर बनने की भी योग्यता नहीं है। अच्छा लीडर निष्पक्ष एवं सहयोग भावना से परिपूर्ण होता है। सहयोग देंगे तो सहयोग मिलेगा भी। अतः सहयोगी बनना ही उचित है। सहयोग देंगे तो आसानी से सहयोग भी मिलेगा।
7. कार्य और जीवन में सन्तुलन बनाकर रखें!
     यह स्मरण रखें कि कार्य और जीवन के मध्य एक सन्तुलन होना चाहिए। जीवन के सभी पक्ष महत्त्वपूर्ण हैं। जो ये कर पाते हैं वे ही अधिक सफल होते हैं और शीर्ष पर पहुंचते हैं। जो जीवन के संघर्ष से या कार्य के बोझ से तनाव में आ जाते हैं वे जल्दी टूट जाते हैं। इसलिए सफलता हेतु कार्य एवं जीवन के मध्य एक सन्तुलन होना चाहिए।
8. सफलता हेतु धैर्य रखे!
     यह भी जान लें कि र्धर्य रखने पर ही सफलता मिलती है। जो धैर्य नहीं रख पाते हैं वे सफल भी नहीं होते हैं। अधीरता त्याग कर उक्त छह सूत्रों का पालन करें, यही धैर्य आपको शीर्ष पर पहुंचा देगा।
9. समय के मूल्य को जानें!
     समय को यूं ही व्यर्थ न गवाएं। समय का प्रबन्धन करना सीखें! यदि आपको समय का मूल्य ज्ञात होगा और  उसका प्रबन्धन करना आ जाएगा तो आप समय के अपव्यय से बच सकेंगे। इसका सुपरिणाम यह होगा कि आप कम समय में अधिक कार्य कर पाएंगे!
     जब आप कार्यस्थल में स्वयं को सफल बना लेते हैं तो आप जीवन में सफलता की सीढ़ियां चढ जाते हैं। सफल व्यक्ति को भौतिक सुख साधन एवं समृद्धि की चिन्ता नहीं करनी पड़ती है, वे सब उसे उपलब्ध हो जाती हैं।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्‍पणी देकर अपने विचारों को अभिव्‍यक्‍त करें।

पत्राचार पाठ्यक्रम

ज्योतिष का पत्राचार पाठ्यक्रम

भारतीय ज्योतिष के एक वर्षीय पत्राचार पाठ्यक्रम में प्रवेश लेकर ज्योतिष सीखिए। आवेदन-पत्र एवं विस्तृत विवरणिका के लिए रु.50/- का मनीऑर्डर अपने पूर्ण नाम व पते के साथ भेजकर मंगा सकते हैं। सम्पर्कः डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर' ज्योतिष निकेतन 1065/2, शास्त्री नगर, मेरठ-250 005
मोबाईल-09719103988, 01212765639, 01214050465 E-mail-jyotishniketan@gmail.com

पुराने अंक

ज्योतिष निकेतन सन्देश
(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक)
स्टॉक में रहने तक मासिक पत्रिका के प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम, षष्‍ठ एवं सप्‍तम वर्ष के पुराने अंक 1920 पृष्ठ, सजिल्द, गूढ़ ज्ञान से परिपूर्ण और संग्रहणीय हैं। सातों पुस्तकें पत्र लिखकर मंगा सकते हैं। आप रू.1950/-का ड्राफ्‌ट या मनीऑर्डर डॉ.उमेश पुरी के नाम से बनवाकर ज्‍योतिष निकेतन, 1065, सेक्‍टर 2, शास्‍त्री नगर, मेरठ-250005 के पते पर भेजें अथवा उपर्युक्त राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अकाउंट नं. 32227703588 डॉ. उमेश पुरी के नाम में जमा करा सकते हैं। पुस्तकें रजिस्टर्ड पार्सल से भेज दी जाएंगी। किसी अन्य जानकारी के लिए नीचे लिखे फोन नं. पर संपर्क करें।
ज्‍योतिष निकेतन, मेरठ
0121-2765639, 4050465 मोबाईल: 09719103988

विज्ञापन