नए रूप रंग के साथ अपने प्रिय ब्‍लॉग पर आप सबका हार्दिक स्‍वागत है !

ताज़ा प्रविष्ठियां

संकल्प एवं स्वागत्

ज्योतिष निकेतन संदेश हिन्‍दी की मासिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित लेख इस ब्लॉग पर जीवन को सार्थक बनाने हेतु आपके लिए समर्पित हैं। आप इसके पाठक हैं, इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे। हमें विश्‍वास है कि आप सब ज्योतिष, हस्तरेखा, अंक ज्योतिष, वास्तु, अध्यात्म सन्देश, योग, तंत्र, राशिफल, स्वास्थ चर्चा, भाषा ज्ञान, पूजा, व्रत-पर्व विवेचन, बोधकथा, मनन सूत्र, वेद गंगाजल, अनुभूत ज्ञान सूत्र, कार्टून और बहुत कुछ सार्थक ज्ञान को पाने के लिए इस ब्‍लॉग पर आते हैं। ज्ञान ही सच्चा मित्र है और कठिन परिस्थितियों में से बाहर निकाल लेने में समर्थ है। अत: निरन्‍तर ब्‍लॉग पर आईए और अपनी टिप्‍पणी दीजिए। आपकी टिप्‍पणी ही हमारे परिश्रम का प्रतिफल है।

शनिवार, मार्च 12, 2011

31-समृद्ध कैसे बनें?


  
    प्रकृति की समर्पण भावना अटूट है!
    प्रकृति जीवों के प्रति समर्पित है इसीलिए उसमें समर्पण भावना अटूट है। प्रकृति की इस सीख को तुरन्‍त ग्रहण कर लेना चाहिए। समर्पण का भाव आप में लगन उत्‍पन्‍न कर देता है। आपको एकाग्र बना देता है। आपका ध्‍यान पूर्णत: लक्ष्‍य के प्रति होता है, फल की चिन्‍ता भी नहीं रहती है। आपका ध्‍यान जैसा होता है आप वैसे ही बनते हैं। आपका ध्‍यान ध्‍यान भूतकाल की ओर रहता है तो आप भूतकाल के हो जाते हैं। आप भविष्‍य का ध्‍यान करते हैं तो आप भविष्‍य के लिए चिन्‍ता करने लगते हैं। आपको वर्तमान का ध्‍यान रखना चाहिए। अतीत का ध्‍यान नहीं करना चाहिए। अतीत से मात्र सीख लेनी चाहिए जिससे वर्तमान को उत्‍साह और लगन से हूबहू जी सकें। आपको भविष्‍य की चिन्‍ता नहीं करनी चाहिए। अतीत की सीख से वर्तमान को प्रतिक्षण जी लेने से भविष्‍य स्‍वत: सुन्‍दर बनकर आपको आकर्षित करने लगता है।
    जो करें, जैसा करें, अच्‍छा करें या बुरा करें पूर्ण समर्पण भाव से करें। आप अनुभूत करेंगे कि जीवन की अनेकता एकता में परिवर्तित होती जा रही है। उसमें उत्‍साह का नया रंग बिखरता जा रहा है। आपके चहुं ओर विपुलता, सम्पन्‍नता, वैभव एवं प्रचुरता असीम रूप में आती जा रही है, लेकिन फिर भी आप उसे बटोरने के लिए चिन्तित नहीं हैं क्‍योंकि जो चाह रहे हैं, जब चाह रहे हैं, स्‍वत: मिलता जा रहा है। आपने तो मात्र समर्पण किया है। आपका समर्पण किसी के प्रति भी हो सकता है-ईश्‍वर, परिवार, मित्र, शत्रु, कार्य या चाहे कोई भी जिसके प्रति आप देना चाहते हैं। समर्पण से समृद्धि का द्वार खुल जाता है। आपको ध्‍यान केन्द्रित करना है।
    आपका ध्‍यान समृद्धि की ओर है और यह अपूर्ण नहीं है तो समृद्धि स्‍वत: आप तक पहुंच जाएगी। ध्‍यान अपूर्ण हो अर्थात् समर्पण में पूर्णता नहीं है तो आपमें और आपके ध्‍यान में भी पूर्णता नहीं होगी। सम्‍पूर्णता ध्‍यान से आती है और ध्‍यान समर्पण भाव से लगने पर लगता है। समर्पण को अपनाने की सरल रीति इस प्रकार है। आप दूजों को कुछ न कुछ किसी भी रूप में देते रहें। आप उपहार, पुष्‍प, शुभकामना या प्रशंसा भी कर सकते हैं। यह भी नहीं कर सकते तो उसके लिए ईश्‍वर से प्रार्थना कर सकते हैं। प्रकृति की प्रचुरता से कुछ भी लेकर दे सकते हैं।
    जब तक आप देना नहीं जानते तब तक आप पाने के लिए भी अधिकृत नहीं हैं। देने वाला ही लेने का अधिकारी है। दूसरों की इच्‍छा-पूर्ति में सहायक बनेंगे तो आप स्‍वत: अपनी इच्‍छाओं को सहज में पूर्ण कर सकेंगे।
    समर्पण देने से बढ़ता है। समर्पण में तब अत्‍यधिक वृद्धि होती है, जब आप प्रसन्‍नता सहित कुछ भी देते हैं। देते समय भावना शुद्ध होनी चाहिए। देकर खोने की भावना नकारात्‍मक भाव है, इससे कदापि वृद्धि नहीं होती है, अपितु दु:खी होकर दी गई वस्‍तु निरर्थक एवं लाभहीन है।
    बीज में वृक्ष बनने की संभावना निहित है। बीज संग्रह से विकास नहीं होता है अपितु रोपित करने से उसमें छिपी संभावना स्‍फुरित होकर विकास पाती है। समर्पण को बीज सदृश नित्‍य रोपित करते जाएंगे तो एक दिन उससे उपजी फसल को काटने की सामर्थ्‍य आपके पास नहीं होगी।
    सम्‍बन्ध लेने-देने से बनते हैं। जब न कुछ देंगे या न कुछ लेंगे तो सम्‍बन्‍ध कैसेट बनेंगे। समृद्धि प्रचुरता में निहित है। प्रचुरता प्रवाह या विस्‍तार में छिपी है। निरन्‍तर प्रवाह, गतिशीलता या निरन्‍तर लेन-देन या समर्पण होते रहने से ही समृद्धि होती है। प्रकृति के निरन्‍तर समर्पण को देख लें, आप स्‍वत: समझ जाएंगे कि देने में ही प्राइज़ का रहस्‍य छिपा है। प्रकृति से बेहतर समर्पण का भाव कोई नहीं सिखा सकता। वाहन निरन्‍तर चलते रहने पर गन्‍तव्‍य तक पहुंचता है, रुक जाने या खराब हो जाने पर गन्‍तव्‍य तक पहुंच पाना कठिन हो जाता है। समर्पण को पूर्णत: सहित अपनाएंगे तो समृद्धि का असीमित भंडार आपके सम्‍मुख होगा।   (क्रमश:)
(आप समृद्धि के रहस्‍य से वंचित न रह जाएं इसलिए ज्‍योतिष निकेतन सन्‍देश पर प्रतिदिन आकर 'समृद्ध कैसे बनें' सीरीज के लेख पढ़ना न भूलें! ये लेख आपको सफलता का सूत्र दे सकते हैं, इस सूत्र के अनुपालन से आप समृद्ध बनने का सुपथ पा सकते हैं!)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्‍पणी देकर अपने विचारों को अभिव्‍यक्‍त करें।

पत्राचार पाठ्यक्रम

ज्योतिष का पत्राचार पाठ्यक्रम

भारतीय ज्योतिष के एक वर्षीय पत्राचार पाठ्यक्रम में प्रवेश लेकर ज्योतिष सीखिए। आवेदन-पत्र एवं विस्तृत विवरणिका के लिए रु.50/- का मनीऑर्डर अपने पूर्ण नाम व पते के साथ भेजकर मंगा सकते हैं। सम्पर्कः डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर' ज्योतिष निकेतन 1065/2, शास्त्री नगर, मेरठ-250 005
मोबाईल-09719103988, 01212765639, 01214050465 E-mail-jyotishniketan@gmail.com

पुराने अंक

ज्योतिष निकेतन सन्देश
(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक)
स्टॉक में रहने तक मासिक पत्रिका के प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम, षष्‍ठ एवं सप्‍तम वर्ष के पुराने अंक 1920 पृष्ठ, सजिल्द, गूढ़ ज्ञान से परिपूर्ण और संग्रहणीय हैं। सातों पुस्तकें पत्र लिखकर मंगा सकते हैं। आप रू.1950/-का ड्राफ्‌ट या मनीऑर्डर डॉ.उमेश पुरी के नाम से बनवाकर ज्‍योतिष निकेतन, 1065, सेक्‍टर 2, शास्‍त्री नगर, मेरठ-250005 के पते पर भेजें अथवा उपर्युक्त राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अकाउंट नं. 32227703588 डॉ. उमेश पुरी के नाम में जमा करा सकते हैं। पुस्तकें रजिस्टर्ड पार्सल से भेज दी जाएंगी। किसी अन्य जानकारी के लिए नीचे लिखे फोन नं. पर संपर्क करें।
ज्‍योतिष निकेतन, मेरठ
0121-2765639, 4050465 मोबाईल: 09719103988

विज्ञापन