नए रूप रंग के साथ अपने प्रिय ब्‍लॉग पर आप सबका हार्दिक स्‍वागत है !

ताज़ा प्रविष्ठियां

संकल्प एवं स्वागत्

ज्योतिष निकेतन संदेश हिन्‍दी की मासिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित लेख इस ब्लॉग पर जीवन को सार्थक बनाने हेतु आपके लिए समर्पित हैं। आप इसके पाठक हैं, इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे। हमें विश्‍वास है कि आप सब ज्योतिष, हस्तरेखा, अंक ज्योतिष, वास्तु, अध्यात्म सन्देश, योग, तंत्र, राशिफल, स्वास्थ चर्चा, भाषा ज्ञान, पूजा, व्रत-पर्व विवेचन, बोधकथा, मनन सूत्र, वेद गंगाजल, अनुभूत ज्ञान सूत्र, कार्टून और बहुत कुछ सार्थक ज्ञान को पाने के लिए इस ब्‍लॉग पर आते हैं। ज्ञान ही सच्चा मित्र है और कठिन परिस्थितियों में से बाहर निकाल लेने में समर्थ है। अत: निरन्‍तर ब्‍लॉग पर आईए और अपनी टिप्‍पणी दीजिए। आपकी टिप्‍पणी ही हमारे परिश्रम का प्रतिफल है।

गुरुवार, फ़रवरी 10, 2011

1-समृद्ध कैसे बनें?



सर्वाधिक समृद्ध कौन है ?
सर्वाधिक समृद्ध प्रकृति है, उससे बड़ा समृद्ध कोई नहीं है।
जब आप यह जानते हैं कि सबसे बड़ा समृद्ध कौन है तो फिर समृद्धि के लिए इधर-उधर भटकने की क्‍या आवश्‍यकता है? 
आपको प्रकृति का स्‍वाध्‍याय करना है। यदि आपने ऐसा करना सीख लिया है तो समझ लें आपने अपनी समृद्धि का द्वार भी खोल लिया है।
समृद्धि के लिए प्रकृति के गुणों का अनुसरण कीजिए, उसमें असीम सम्‍भावनाएं छिपी हैं। 
आईए हम सब प्रकृति की गुणधर्मिता को सहज होकर जानें, उसे जाने बिना समृद्धि का द्वार नहीं खुल सकता है।
आईए प्रकृति का स्‍वाध्‍याय करें! उसका अनुशीलन करने से ज्ञानकोश में वृद्धि होगी जिससे स्‍वयं को जानने की सामर्थ्‍य बढ़ेगी और यह सब होने से समृद्धि का मार्ग कंटकविहीन हो जाएगा। आईए गम्‍भीरता सहित पूर्ण ध्‍यान से प्रकृति का निकट से साक्षात्‍कार करने के लिए उसका गहन अध्‍ययन करें। प्रकृति को जान लेने से स्‍वयं का साक्षात्‍कार हो जाता है और साथ में यह भी ज्ञात हो जाता है कि आप में समृद्ध बनने की कितनी सामर्थ्‍य है। जब आपको अपनी सामर्थ्‍य का पूर्वानुमान हो जाएगा तो आप स्‍वत: उसके अनुरूप अपने साध्‍य(समृद्धि) को पाने के लिए साधन जुटा पाने में सक्षम हो सकेंगे। आईए अब एक-एक करके प्रकृति की रहस्‍यमयी परतों को खोलें। आपको इन परतों को मात्र खोलना नहीं है, अपितु उसे व्‍यवहार में लाना है। यदि आपने ऐसा किया तो समझ लीजिए आपने प्रकृति का परिचय पा लिया। प्रकृति जगत् में सवार्धिक धनी है, जब आपने उसे समझ लिया तो आपको समृद्ध होने से कौन रोकेगा।(क्रमश:)
(आप समृद्धि के रहस्‍य से वंचित न रह जाएं इसलिए ज्‍योतिष निकेतन सन्‍देश पर प्रतिदिन आकर 'समृद्ध कैसे बनें' सीरीज के लेख पढ़ना न भूलें! ये लेख आपको सफलता का सूत्र दे सकते हैं, इस सूत्र के अनुपालन से आप समृद्ध बनने का सुपथ पा सकते हैं!)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्‍पणी देकर अपने विचारों को अभिव्‍यक्‍त करें।

पत्राचार पाठ्यक्रम

ज्योतिष का पत्राचार पाठ्यक्रम

भारतीय ज्योतिष के एक वर्षीय पत्राचार पाठ्यक्रम में प्रवेश लेकर ज्योतिष सीखिए। आवेदन-पत्र एवं विस्तृत विवरणिका के लिए रु.50/- का मनीऑर्डर अपने पूर्ण नाम व पते के साथ भेजकर मंगा सकते हैं। सम्पर्कः डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर' ज्योतिष निकेतन 1065/2, शास्त्री नगर, मेरठ-250 005
मोबाईल-09719103988, 01212765639, 01214050465 E-mail-jyotishniketan@gmail.com

पुराने अंक

ज्योतिष निकेतन सन्देश
(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक)
स्टॉक में रहने तक मासिक पत्रिका के प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम, षष्‍ठ एवं सप्‍तम वर्ष के पुराने अंक 1920 पृष्ठ, सजिल्द, गूढ़ ज्ञान से परिपूर्ण और संग्रहणीय हैं। सातों पुस्तकें पत्र लिखकर मंगा सकते हैं। आप रू.1950/-का ड्राफ्‌ट या मनीऑर्डर डॉ.उमेश पुरी के नाम से बनवाकर ज्‍योतिष निकेतन, 1065, सेक्‍टर 2, शास्‍त्री नगर, मेरठ-250005 के पते पर भेजें अथवा उपर्युक्त राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अकाउंट नं. 32227703588 डॉ. उमेश पुरी के नाम में जमा करा सकते हैं। पुस्तकें रजिस्टर्ड पार्सल से भेज दी जाएंगी। किसी अन्य जानकारी के लिए नीचे लिखे फोन नं. पर संपर्क करें।
ज्‍योतिष निकेतन, मेरठ
0121-2765639, 4050465 मोबाईल: 09719103988

विज्ञापन