नए रूप रंग के साथ अपने प्रिय ब्‍लॉग पर आप सबका हार्दिक स्‍वागत है !

ताज़ा प्रविष्ठियां

संकल्प एवं स्वागत्

ज्योतिष निकेतन संदेश हिन्‍दी की मासिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित लेख इस ब्लॉग पर जीवन को सार्थक बनाने हेतु आपके लिए समर्पित हैं। आप इसके पाठक हैं, इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे। हमें विश्‍वास है कि आप सब ज्योतिष, हस्तरेखा, अंक ज्योतिष, वास्तु, अध्यात्म सन्देश, योग, तंत्र, राशिफल, स्वास्थ चर्चा, भाषा ज्ञान, पूजा, व्रत-पर्व विवेचन, बोधकथा, मनन सूत्र, वेद गंगाजल, अनुभूत ज्ञान सूत्र, कार्टून और बहुत कुछ सार्थक ज्ञान को पाने के लिए इस ब्‍लॉग पर आते हैं। ज्ञान ही सच्चा मित्र है और कठिन परिस्थितियों में से बाहर निकाल लेने में समर्थ है। अत: निरन्‍तर ब्‍लॉग पर आईए और अपनी टिप्‍पणी दीजिए। आपकी टिप्‍पणी ही हमारे परिश्रम का प्रतिफल है।

शनिवार, मई 22, 2010

मधुमेह से जूझने के सूत्र -डॉ. सत्येन्द्र तोमर (बी.ए.एम.एस, एम.डी)



     शरीर में मधुमेह रोग हो तो लोग कहने लगते हैं अब तो मीठा खाना दुश्वार हो गया है। मधुमेह के रोगी भारत में तेजी से बढ़ रहे हैं, इस बात को देखकर भारत को मधुमेह की राजधानी कहा जाता है। मधुमेह यानि डॉयबीटिज से बचाव के अनमोल सूत्र यहां बता रहे हैं जिसके अनुपालन से आप सरलता से मधुमेह से जूझ सकते हैं।
मधुमेह से जूझने के सूत्र
     मधुमेह के विषय में अधिक से अधिक जानकारी प्राप्त करें। इससे इस रोग से जूझने की शक्ति प्राप्त होती है। मधुमेह का जागरुक रोगी ही इससे जूझने की शक्ति रखता है।
     यदि आप मोटापे के शिकार हैं तो वजन घटाइए। जो लोग शारीरिक श्रम कम करते हैं उनमें भार बढ़ने की प्रवृत्ति और मधुमेह होने का खतरा अधिक रहता है। आप अपने भार का छह प्रतिशत भी घटा लेंगे तो आपको मधुमेह होने को खतरा पचास प्रतिशत तक कम हो जाता है। लेकिन यह कदापि ने भूलें कि मधुमेह मोटे-पतले, बच्चे, युवा, वृद्ध सभी को हो सकती है।
     सुबह और शाम की सैर या व्यायाम करने का नियम सख्ती से बनाएं और उसका नित्य पालन करें। छोटे-छोटे श्रम के कार्य स्वयं करने की आदत बनाएं।
     मधुमेह से बचने का सर्वोत्तम सूत्र हैं कि माह में एक बार शुगर की जांच अवश्य कराएं और उसी के अनुरूप चिकित्सक से सलाह लेकर चिकित्सा करें या औषधि का सेवन करें। यदि इसमें लापहरवाही करेंगे तो आगे चलकर आंखों की रोशनी, किडनी, स्नायु तन्त्र, हृदय सम्बन्धी रोग घेर सकते हैं।
     मधुमेह के रोगी को भोजन में सावधानी बरतने चाहिए। परहेज उसके लिए रामबाण है। कम वसा और अधिक रेशे वाला भोजन इस रोग से लड़ने की क्षमता प्रदान करता है। इसके रोगी को जूस पीने की अपेक्षा साबुत फल छिलके समेत खाने चाहिएं।
     मधुमेह में फाइबर फूड खाने की विशेष सलाह दी जाती है। फाइबर दो प्रकार के होते हैं-अघुलनशील और घुलनशील। दोनों हमारे शरीर में अलग-अलग कार्य करते हैं। अघुलनशील फाइबर भोजन को आसानी से आंतों में पहुंचा देते हैं। गहरे हरे रंग की सब्जियां, फल, आलू का छिलका, साबुत अनाज, चोकर, मेवे और सीड्स।
घुलनशील फाइबर भोजन वसा युक्त एसिड में होता है और शरीर में शुगर का समावेश तेजी से नहीं होने देता है। इसके अन्तर्गत सूखे बीन्स और मटर, ओट्स और उनका चोकर, जौ, मेवे, सन्तरा, सेब, गाजर आदि पदार्थ आते हैं।
     नियमित और समय पर व्यायाम और भोजन का सेवन इस रोग से लड़ने की क्षमता देता है। उचित श्रम, भोजन का विशेष ध्यान रखें। कम वसा युक्त भोजन लेंगे और परहेज व असमय के मीठे या मिठाई से स्वयं को बचाकर रखेंगे तो मधुमेह आपके लिए रोग न होकर जीवन जीने का एक ढंग बन जाएगा। इस रोग से वे अधिक परेशान रहते हैं जो जीवन में नियमितता और एक अनुशासन नहीं ले पाते और दिन भर कभी भी कुछ न कुछ खाते रहते हैं और इस खाने में वे यह भी भूल जाते हैं कि वे विष के रूप में अपने रोग को अनजाने में ही बढ़ा रहे हैं और खतरा सिर पर मंडरा रहा है। नियमित जीवन से इस रोग से जूझ सकते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्‍पणी देकर अपने विचारों को अभिव्‍यक्‍त करें।

पत्राचार पाठ्यक्रम

ज्योतिष का पत्राचार पाठ्यक्रम

भारतीय ज्योतिष के एक वर्षीय पत्राचार पाठ्यक्रम में प्रवेश लेकर ज्योतिष सीखिए। आवेदन-पत्र एवं विस्तृत विवरणिका के लिए रु.50/- का मनीऑर्डर अपने पूर्ण नाम व पते के साथ भेजकर मंगा सकते हैं। सम्पर्कः डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर' ज्योतिष निकेतन 1065/2, शास्त्री नगर, मेरठ-250 005
मोबाईल-09719103988, 01212765639, 01214050465 E-mail-jyotishniketan@gmail.com

पुराने अंक

ज्योतिष निकेतन सन्देश
(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक)
स्टॉक में रहने तक मासिक पत्रिका के प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम, षष्‍ठ एवं सप्‍तम वर्ष के पुराने अंक 1920 पृष्ठ, सजिल्द, गूढ़ ज्ञान से परिपूर्ण और संग्रहणीय हैं। सातों पुस्तकें पत्र लिखकर मंगा सकते हैं। आप रू.1950/-का ड्राफ्‌ट या मनीऑर्डर डॉ.उमेश पुरी के नाम से बनवाकर ज्‍योतिष निकेतन, 1065, सेक्‍टर 2, शास्‍त्री नगर, मेरठ-250005 के पते पर भेजें अथवा उपर्युक्त राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अकाउंट नं. 32227703588 डॉ. उमेश पुरी के नाम में जमा करा सकते हैं। पुस्तकें रजिस्टर्ड पार्सल से भेज दी जाएंगी। किसी अन्य जानकारी के लिए नीचे लिखे फोन नं. पर संपर्क करें।
ज्‍योतिष निकेतन, मेरठ
0121-2765639, 4050465 मोबाईल: 09719103988

विज्ञापन