नए रूप रंग के साथ अपने प्रिय ब्‍लॉग पर आप सबका हार्दिक स्‍वागत है !

ताज़ा प्रविष्ठियां

संकल्प एवं स्वागत्

ज्योतिष निकेतन संदेश हिन्‍दी की मासिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित लेख इस ब्लॉग पर जीवन को सार्थक बनाने हेतु आपके लिए समर्पित हैं। आप इसके पाठक हैं, इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे। हमें विश्‍वास है कि आप सब ज्योतिष, हस्तरेखा, अंक ज्योतिष, वास्तु, अध्यात्म सन्देश, योग, तंत्र, राशिफल, स्वास्थ चर्चा, भाषा ज्ञान, पूजा, व्रत-पर्व विवेचन, बोधकथा, मनन सूत्र, वेद गंगाजल, अनुभूत ज्ञान सूत्र, कार्टून और बहुत कुछ सार्थक ज्ञान को पाने के लिए इस ब्‍लॉग पर आते हैं। ज्ञान ही सच्चा मित्र है और कठिन परिस्थितियों में से बाहर निकाल लेने में समर्थ है। अत: निरन्‍तर ब्‍लॉग पर आईए और अपनी टिप्‍पणी दीजिए। आपकी टिप्‍पणी ही हमारे परिश्रम का प्रतिफल है।

रविवार, मई 02, 2010

टैरो कार्ड से भविष्य कैसे जानें-डॉ.शिवानी कथूरिया (लेख-18)



टैरो कार्ड से भविष्य कैसे जाने के अन्तर्गत माइनर अर्काना के 56 कार्डस्‌ की चर्चा करेंगे। सर्वप्रथम छड़ियां के 14 कार्डों की चर्चा करेंगे जोकि पृच्छक की महत्त्वकांक्षा और विचारों को दर्शाते हैं जोकि भविष्य में बड़ा परिवर्तन लाने वाले हैं। कार्डस के इस समूह में 14 कार्डस होते हैं। इसमें से आठ छड़ी तक के कार्डस्‌ की चर्चा अंक 56 अगस्त 2008 में कर चुके हैं। यह लेख माला व्यक्तिगत समस्याओं के कारण बन्द हो गयी थी। इसके लिए खेद है। अब इसे पुनः नौ छड़ी के कार्ड से प्रारम्भ कर रही हूँ। यदि इस लेखमाला के पुराने लेख पढ़ना चाहते हैं तो आप ज्योतिष निकेतन सन्देश कार्यालय से सम्पर्क करके स्टॉक रहने तक पुराने अंक खरीद कर पढ़ सकते हैं।
नौ छड़ी का कार्ड
नौ छड़ी का कार्ड साहस, उपयोगिता, क्षमता, स्थिरता, दृढ़ता, जड़ता, इच्छा का संकेत देती है। यह कार्ड पूर्णता के साथ-साथ एक दौर से दूसरे दौर की ओर जाने का संकेत देता है। यह यात्रा अन्त के साथ एक नई प्रारम्भ का प्रतीक भी है। कार्ड पर एक व्यक्ति एक छड़ी पकड़े खड़ा है। अन्य आठ छड़ियां उसने अपने पीछे इस तरह लगाई हैं कि एक बाढ़ सी दिखती है। उसके सिर पर चोट लगी है। वह कोई असावधानी नहीं बरतना चाहता है, उसने अपनी सुरक्षा का पूर्ण प्रबन्ध कर रखा है। वह चौकन्ना है, यदि वार होगा तो वह तैयार है। विगत अनुभवों से उसने बहुत कुछ सीखा है। वह कुछ थका लग रहा है, उसे आराम की आवश्यकता है। वह अपने थका देने वाली इस यात्रा से प्रसन्न है क्योंकि अन्ततः वह अपने परिश्रम व विश्वास से ही तो यहां तक पहुंच पाया है। 

 कार्ड रीडिंग में नौ छड़ी का कार्ड आए तो उसके दोनों अर्थ बतलाते हैं। सीधा कार्ड आए तो अर्थ यह है कि तुमने स्वयं को जीत के लिए तैयार किया है। स्वास्थ्य, निज शक्ति एवं सहनशक्ति चरम पर होगी। पूर्वानुमान, बल, पूर्व में हुए आघातों से शिक्षा, भविष्य को लेकर चिन्ता, सन्देह, भावनात्मक आघात के प्रति सचेत, सर्तकता आदि को दर्शाता है। उल्टा कार्ड आए तो अर्थ यह है कि अधिक सतर्कता हानि करती है, सन्तुलित न हो पाना, हार कर बैठना, दूजों को दोष देना या अधिक उत्सुक रहना, अभिमान, गलत को सही कहना और सही व गलत में अन्तर न कर पाना आदि।उपाय के लिए यह करें। एक स्थान पर बैठकर तीन गहरी सांसें लें। पुनः यथार्थ स्थिति में आकर अपनी परेशानियों के विषय में या जो आप चाहते हैं उसके विषय में सोचें। सीधे हाथ में मून स्टोन या ग्रीन एवन चूरियन क्रिस्टल व बाएं हाथ में हरी या सफेद मोमबत्ती पकड़ें। कुछ देर के लिए अपनी इच्छाओं पर ध्यान केन्द्रित करें। उसके बाद मून स्टोन या क्रिस्टल को मून वाटर से ढकें। मोमबत्ती पर मून ऑयल नीचे से ऊपर की ओर लगाएं और अपनी इच्छाओं के विषय में सोचते हुए स्टैंड पर लगाकर माचिस से जला दें। कोई नकारात्मक विचार आए तो उससे ध्यान हटाकर पुनः केन्द्रित करें। मोमबत्ती के पास मून स्टोन या क्रिस्टल रखें। कागज पर अपनी इच्छाएं लिखकर ध्यान केन्द्रित करें और उस कागज को मोमबत्ती की लौ से जला दें। कुछ देर मोमबत्ती जलने दें और बाद में बुझा दें। ध्यान रखें कि फूंक मारकर कदापि न बुझाएं। बची हुई मोमबत्ती व कागज पानी में विसर्जित करें या किसी हरे भरे वृक्ष के नीचे छोड़ दें।  मून स्टोन या क्रिस्टल को जादूई भाग्यशाली  वस्तु के रूप में अपने पास रखें।  
अगले अंक में दस छड़ी संबंधी अन्य कार्डों की चर्चा करेंगे जिससे आप कार्ड रीडिंग करने में प्रवीण हो सकें।
अधिक जानकारी के लिए लेखिका की बेबसाइट पर सर्फ कर सकते हैं, इनका पता है-http://www. the magickal moon.com.(क्रमशः)। 






कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्‍पणी देकर अपने विचारों को अभिव्‍यक्‍त करें।

पत्राचार पाठ्यक्रम

ज्योतिष का पत्राचार पाठ्यक्रम

भारतीय ज्योतिष के एक वर्षीय पत्राचार पाठ्यक्रम में प्रवेश लेकर ज्योतिष सीखिए। आवेदन-पत्र एवं विस्तृत विवरणिका के लिए रु.50/- का मनीऑर्डर अपने पूर्ण नाम व पते के साथ भेजकर मंगा सकते हैं। सम्पर्कः डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर' ज्योतिष निकेतन 1065/2, शास्त्री नगर, मेरठ-250 005
मोबाईल-09719103988, 01212765639, 01214050465 E-mail-jyotishniketan@gmail.com

पुराने अंक

ज्योतिष निकेतन सन्देश
(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक)
स्टॉक में रहने तक मासिक पत्रिका के प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम, षष्‍ठ एवं सप्‍तम वर्ष के पुराने अंक 1920 पृष्ठ, सजिल्द, गूढ़ ज्ञान से परिपूर्ण और संग्रहणीय हैं। सातों पुस्तकें पत्र लिखकर मंगा सकते हैं। आप रू.1950/-का ड्राफ्‌ट या मनीऑर्डर डॉ.उमेश पुरी के नाम से बनवाकर ज्‍योतिष निकेतन, 1065, सेक्‍टर 2, शास्‍त्री नगर, मेरठ-250005 के पते पर भेजें अथवा उपर्युक्त राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अकाउंट नं. 32227703588 डॉ. उमेश पुरी के नाम में जमा करा सकते हैं। पुस्तकें रजिस्टर्ड पार्सल से भेज दी जाएंगी। किसी अन्य जानकारी के लिए नीचे लिखे फोन नं. पर संपर्क करें।
ज्‍योतिष निकेतन, मेरठ
0121-2765639, 4050465 मोबाईल: 09719103988

विज्ञापन