नए रूप रंग के साथ अपने प्रिय ब्‍लॉग पर आप सबका हार्दिक स्‍वागत है !

ताज़ा प्रविष्ठियां

संकल्प एवं स्वागत्

ज्योतिष निकेतन संदेश हिन्‍दी की मासिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित लेख इस ब्लॉग पर जीवन को सार्थक बनाने हेतु आपके लिए समर्पित हैं। आप इसके पाठक हैं, इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे। हमें विश्‍वास है कि आप सब ज्योतिष, हस्तरेखा, अंक ज्योतिष, वास्तु, अध्यात्म सन्देश, योग, तंत्र, राशिफल, स्वास्थ चर्चा, भाषा ज्ञान, पूजा, व्रत-पर्व विवेचन, बोधकथा, मनन सूत्र, वेद गंगाजल, अनुभूत ज्ञान सूत्र, कार्टून और बहुत कुछ सार्थक ज्ञान को पाने के लिए इस ब्‍लॉग पर आते हैं। ज्ञान ही सच्चा मित्र है और कठिन परिस्थितियों में से बाहर निकाल लेने में समर्थ है। अत: निरन्‍तर ब्‍लॉग पर आईए और अपनी टिप्‍पणी दीजिए। आपकी टिप्‍पणी ही हमारे परिश्रम का प्रतिफल है।

सोमवार, सितंबर 28, 2009

मंगल की उत्पत्ति-सत्यज्ञ

भगवान्‌ वाराह ने रसातल से पृथ्वी का उद्धार कर उसको अपनी कक्षा में स्थापित कर दिया था। इसीलिए पृथ्वी देवी की उद्विग्नता मिट गई ओर वे स्वस्थ्य हो गईं। उनकी इच्छा भगवान को पति के रूप में पाने की हो गई। उस समय वाराह भगवान को तेज करोड़ों सूर्य के सदृश असह्य था। पृथ्वी की  देवी की कामना की पूर्ति के लिए भगवान वाराह अपने मनोरम रूप में आ गए और पृथ्वी देवी के साथ वे दिव्य वर्ष तक एकानत में रहे।
 इसके बाद वाराह रूप में आकर पृथ्वी देवी का पूजन किया। उस समय पृथ्वी देवी गर्भवती हो चुकी थीं, उन्होंने मंगल नामक ग्रह को जन्म दिया। विभिन्न कल्पों में मंगल ग्रह की उत्पत्ति की विभिन्न कथाएं हैं। आजकल पूजा के प्रयोग में इन्हें भारद्वाज गोत्र कहकर सम्बोधित किया जाता है। यह कथा गणेश पुराण में आती है।
पृथ्वी के पिता सूर्य और उसकी माता चन्द्र है। मंगल पृथ्वी का पुत्र है। सूर्य और चन्द्र इसके नाना-नानी हैं। ननिहाल के पूर्ण गुण भी इसमें हैं और पृथ्वी से संघर्ष कर यह उससे अलग हुआ है। अतः इसमें मारकतत्व भी है। सूर्य का तेजस्व और चन्द्र की शीतलता इसमें है। यह प्रबल साहसी है। शक्ति का नेतृत्व इसका प्रतीक है। उज्जैन में इसकी उत्पत्ति मानी गई है। यह चतुर्भुज रूप है। शूल, गदा आदि इसके शस्त्र हैं। यह भारद्वाज कुलीन क्षत्रिय है। मेष इसका वाहन है। इसका देवता कार्तिक स्वामी है। अग्नि तत्त्व होने के कारण वर्षा में चमकती बिजली के सदृश इसकी कांति है।
अहमवैवर्त पुराणानुसार एक बार भगवान्‌ विष्णु का अद्भुत सौन्दर्य देखकर पृथ्वी ने सुन्दर स्त्री का वेष धारण करके तेजस्वी पुत्रा की कामना हेतु प्रणय निवेदन किया। दोनों के संगम में स्त्रीरूपा पृथ्वी मूर्च्छित हो गई। विष्णु द्वारा उत्सर्जित रक्तवर्णीय वीर्य ही प्रवाल है। पृथ्वी द्वारा उत्पन्न उसका यह पुत्रा रक्तवर्णीय होने से अंगारक कहलाया।
मत्स्य पुराण के अनुसार एक अन्य कथा के अनुसार प्रजापति दक्ष का विनाश करने के लिए कुपित हुए महादेव के ललाट से लालरंग के पसीने की एक बूंद पृथ्वी पर गिरी। पृथ्वी उस तेज को सहन न कर सकी। वह बूंद सात पाताल, सात समुद्र का भेदन करके वीरभ्रद के रूप में परिवर्तित हो गई। दक्ष यज्ञ का विनाश करके वीरभ्रद पुनः शिव के सम्मुख उपस्थित हुआ। शिवजी ने प्रसन्न होकर उसे ग्रह का रूप प्रदान किया और कहा-आज से तुम धरात्मज एवं अंगारक नाम से प्रसिद्ध होकर देवलोक में ग्रह के रूप में प्रसिद्ध हो जाओगे। जो व्यक्ति चतुर्थी एवं मंगलवार के दिन तुम्हारी पूजा करेगा उसे तुम उत्तम आयु, आरोग्य, अनन्त ऐश्वर्य देकर तृप्त करोगे।
स्कन्द पुराण में वर्णित मंगल स्तोत्र का नित्य पाठ करने से मंगल शीघ्र प्रसन्न होकर मनोवांछित फल देते हैं। कोष्ठी प्रदीप नामक प्राचीन ग्रन्थ में कहा गया है-जो मंगलवार के दिन लग्न में मंगल लेकर उत्पन्न होगा, वह महान प्रतापी, उग्र, रणप्रिय, क्रोधी, सात्विक, शूरवीर एवं राज्यमन्त्री होगा।
मंगल का कारकतत्व है-मंगल भूमि, पराक्रम, विजय, कीर्ति, युद्ध, साहस का कारक, छोटे बडे-भाई बहिन, जीवन शक्ति, लाल नारंगी रंग, संघर्ष, आत्मबल, रक्त, रक्तविकार, चर्मरोग, तांबा, कामवासना, धैर्य, क्रोध, उत्तेजना, ठेकेदारी, निर्माण कार्य, भूमि का क्रय-विक्रय, ऋण यह सब मंगल में देखा जाता है।
मंगल के अधिदेवता स्कन्ध, प्रत्याधिदेवता पृथ्वी हैं। इसकी आकृति चतुष्कोणात्मक है। मंगल का गोत्र भारद्वाज है। इसका वैदिक मन्त्र है-अग्निमूर्धा दिवः ककुत्पतिः पृथि व्यांऽअयम्‌। अपागंद्भरेतागंद्भसिजिन्वति॥ ओम्‌ भौमाय नमः।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्‍पणी देकर अपने विचारों को अभिव्‍यक्‍त करें।

पत्राचार पाठ्यक्रम

ज्योतिष का पत्राचार पाठ्यक्रम

भारतीय ज्योतिष के एक वर्षीय पत्राचार पाठ्यक्रम में प्रवेश लेकर ज्योतिष सीखिए। आवेदन-पत्र एवं विस्तृत विवरणिका के लिए रु.50/- का मनीऑर्डर अपने पूर्ण नाम व पते के साथ भेजकर मंगा सकते हैं। सम्पर्कः डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर' ज्योतिष निकेतन 1065/2, शास्त्री नगर, मेरठ-250 005
मोबाईल-09719103988, 01212765639, 01214050465 E-mail-jyotishniketan@gmail.com

पुराने अंक

ज्योतिष निकेतन सन्देश
(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक)
स्टॉक में रहने तक मासिक पत्रिका के प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम, षष्‍ठ एवं सप्‍तम वर्ष के पुराने अंक 1920 पृष्ठ, सजिल्द, गूढ़ ज्ञान से परिपूर्ण और संग्रहणीय हैं। सातों पुस्तकें पत्र लिखकर मंगा सकते हैं। आप रू.1950/-का ड्राफ्‌ट या मनीऑर्डर डॉ.उमेश पुरी के नाम से बनवाकर ज्‍योतिष निकेतन, 1065, सेक्‍टर 2, शास्‍त्री नगर, मेरठ-250005 के पते पर भेजें अथवा उपर्युक्त राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अकाउंट नं. 32227703588 डॉ. उमेश पुरी के नाम में जमा करा सकते हैं। पुस्तकें रजिस्टर्ड पार्सल से भेज दी जाएंगी। किसी अन्य जानकारी के लिए नीचे लिखे फोन नं. पर संपर्क करें।
ज्‍योतिष निकेतन, मेरठ
0121-2765639, 4050465 मोबाईल: 09719103988

विज्ञापन