नए रूप रंग के साथ अपने प्रिय ब्‍लॉग पर आप सबका हार्दिक स्‍वागत है !

ताज़ा प्रविष्ठियां

संकल्प एवं स्वागत्

ज्योतिष निकेतन संदेश हिन्‍दी की मासिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित लेख इस ब्लॉग पर जीवन को सार्थक बनाने हेतु आपके लिए समर्पित हैं। आप इसके पाठक हैं, इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे। हमें विश्‍वास है कि आप सब ज्योतिष, हस्तरेखा, अंक ज्योतिष, वास्तु, अध्यात्म सन्देश, योग, तंत्र, राशिफल, स्वास्थ चर्चा, भाषा ज्ञान, पूजा, व्रत-पर्व विवेचन, बोधकथा, मनन सूत्र, वेद गंगाजल, अनुभूत ज्ञान सूत्र, कार्टून और बहुत कुछ सार्थक ज्ञान को पाने के लिए इस ब्‍लॉग पर आते हैं। ज्ञान ही सच्चा मित्र है और कठिन परिस्थितियों में से बाहर निकाल लेने में समर्थ है। अत: निरन्‍तर ब्‍लॉग पर आईए और अपनी टिप्‍पणी दीजिए। आपकी टिप्‍पणी ही हमारे परिश्रम का प्रतिफल है।

रविवार, सितंबर 13, 2009

वास्तु के स्वर्णिम ३५ सूत्र- पं. ज्ञानेश्वर




वास्तु सम्मत भवन आज सभी बनाना चाहते हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए भवन निर्माण से पूर्व सलाह लेना आवश्यक समझने लगे हैं। यहां वास्तु के स्वर्णिम ३५ सूत्र की चर्चा करेंगे जिनको ध्यान में रखकर भवन बनाने से सुख, शान्ति व समृद्धि घर में निवास करती है। वास्तु के महत्वपूर्ण ३५ सूत्र इस प्रकार हैं-

१. भूखण्ड का ढलान उत्तर व पूर्व दिशा में हो तो शुभ है। यह जान लें कि पूर्व एवं उत्तर दिशा सदैव नीची होनी चाहिएं।
२. भूखण्ड के दक्षिण या पश्चिम में ऊंचे भवन, पहाड़, टीले या पेड़ शुभ माने जाते हैं।
३. भूखण्ड के पूर्व या उत्तर में नदी या नहर, जल का स्थान या नीचा होना शुभ है। पानी का बहाव उत्तर या पूर्व की ओर होना अत्यन्त शुभ है।
४. भवन में उत्तर व पूर्व दिशा का भाग नीचा व खुला होना चाहिए जबकि दक्षिण व पश्चिम वाला भाग ऊंचा एवं भारी होना चाहिए व खुला नहीं होना चाहिए। भवन का दक्षिणी भाग सदैव उत्तर भाग से ऊंचा रहना चाहिए। इसी प्रकार भवन का पश्चिम भाग सदैव पूर्वी भाग से ऊंचा रहना चाहिए।
५. भूखण्ड का आकार वर्गाकार या आयताकार होना चाहिए।
६. भूखण्ड की चौड़ाई से लम्बाई दुगने से अधिक नहीं होनी चाहिए।
७. गोमुखी भूखण्ड गृह वास्तु के लिए शुभ होता है।
८. शेरमुखी भूखण्ड व्यावसायिक वास्तु के लिए शुभ होता है।
९. दो बड़े भूखण्डों के मध्य भूखण्ड होना शुभ नहीं है।
१०. दो बड़े भवनों के मध्य दबा हुआ भवन होना शुभ नहीं है। इसलिए ऐसा भवन न बनाएं और न खरीदें।
११. वृत्ताकार भुखण्ड में वृ+त्ताकार निर्माण हो तो शुभ होता है।
१२. भूखण्ड के उत्तर या पूर्व में विस्तार शुभ माना जाता है।
१३. भवन के द्वार के सामने मन्दिर, खंभा व गड्ढा शुभ नहीं माना जाता है। भवन के सम्मुख वेध नहीं होना चाहिए।
१४. आवासीय भूखण्ड में बेसमेन्ट नहीं बनाना चाहिए। बेसमेन्ट बनाना हो तो उत्तर पूर्व में ब्रह्मस्थान को बचाते हुए बनाना शुभ है। बेसमेन्ट की ऊंचाई अल्पतम ९फुट हो और तीन फुट तल से ऊपर हो जिसे प्रकाश और हवा आ जा सके।
१५. प्रत्येक मंजिल की ऊंचाई १२फुट रखनी चाहिए। १०फुट से कम तो रखनी चाहिए।
१६. भवन में नैऋत्य दिशा का भाग सबसे ऊंचा एवं ईशान दिशा का भाग सबसे नीचा होना चाहिए।
१७. द्वार की ऊंचाई चौड़ाई से दुगनी होनी चाहिए। मान लो चौड़ाई ३फुट है तो ऊंचाई ६फुट होनी चाहिए।
१८. भोजन सदैव पूर्व या उत्तर मुख होकर ही करना चाहिए।
१९. मल करते समय मुख उत्तर या दक्षिण में होना चाहिए।
२०. उत्तर दिशा में सिर करके कभी नहीं सोना चाहिए। सदैव दक्षिण की ओर सिर करके सवेम चाहिए।
२१. नैऋत्य में किरायेदार एवं अतिथि को नहीं ठहराना चाहिए।
२२. पूजाघर ईशान कोण में ही बनाना चाहिए। पूजा करते समय मुख उत्तर या पूर्व की ओर होना चाहिए। पूर्वोत्तर मुखी होकर पूजा करने से पूजा का फल शतप्रतिशत मिलता है।
२३. घर में पश्चिम दिशा में भोजनकक्ष, सीढ़ियां व शौचालय बनाया जा सकता है।
२४. सीढ़ियां उत्तर या ईशान में नहीं बनानी चाहिएं।
२५. शौचालय भी ईशान में कदापि नहीं बनाना चाहिए।
२६. बोरिंग उत्तर या ईशान कोण में कर सकते हैं।
२७. घर का भारी सामान नैऋत्य, दक्षिण या पश्चिम में रखना चाहिए जबकि हल्का सामान उत्तर पूर्व या ईशान में रखना चाहिए।
२८. बरामदा घर के उत्तर या पूर्व में ही बनाना चाहिए।
२९. खिड़कियां घर के उत्तर या पूर्व में अधिक तथा दक्षिण या पश्चिम में कम बनानी चाहिएं।
३०. भवन में खिड़कियों व द्वार की संख्या सम होनी चाहिए। द्वार की संख्या गिनते समय मुख्य द्वार को नहीं गिनना चाहिए।
३१. दीवारों की मोटाई सबसे अधिक दक्षिण में, उससे कम पश्चिम में एवं उससे कम उत्तर में एवं सबसे कम पूर्व में रखनी चाहिए।
३२. ब्रह्म स्थान को खुला, साफ एवं हवादार रखना चाहिए।
३३. सीढ़ियों के नीचे पूजाघर, रसोई में पूजाघर कदापि नहीं बनाना चाहिए।
३४. तिजोरी या धन की अलमारी दक्षिणी दीवार के साथ रखनी चाहिए और उसका दरवाजा उत्तर की ओर खुलना चाहिए। धन रखने के स्थान पर उत्तर से कुबेर की दृष्टि अवश्य पड़नी चाहिए।
३५. घर पर पूजा स्थान पर मूर्तियों की स्थापना नहीं करनी चाहिए, वरना सन्तान को परेशानियों का सामना करना पड़ता है। अतः इसका अवश्य ध्यान रखें।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्‍पणी देकर अपने विचारों को अभिव्‍यक्‍त करें।

पत्राचार पाठ्यक्रम

ज्योतिष का पत्राचार पाठ्यक्रम

भारतीय ज्योतिष के एक वर्षीय पत्राचार पाठ्यक्रम में प्रवेश लेकर ज्योतिष सीखिए। आवेदन-पत्र एवं विस्तृत विवरणिका के लिए रु.50/- का मनीऑर्डर अपने पूर्ण नाम व पते के साथ भेजकर मंगा सकते हैं। सम्पर्कः डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर' ज्योतिष निकेतन 1065/2, शास्त्री नगर, मेरठ-250 005
मोबाईल-09719103988, 01212765639, 01214050465 E-mail-jyotishniketan@gmail.com

पुराने अंक

ज्योतिष निकेतन सन्देश
(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक)
स्टॉक में रहने तक मासिक पत्रिका के प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम, षष्‍ठ एवं सप्‍तम वर्ष के पुराने अंक 1920 पृष्ठ, सजिल्द, गूढ़ ज्ञान से परिपूर्ण और संग्रहणीय हैं। सातों पुस्तकें पत्र लिखकर मंगा सकते हैं। आप रू.1950/-का ड्राफ्‌ट या मनीऑर्डर डॉ.उमेश पुरी के नाम से बनवाकर ज्‍योतिष निकेतन, 1065, सेक्‍टर 2, शास्‍त्री नगर, मेरठ-250005 के पते पर भेजें अथवा उपर्युक्त राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अकाउंट नं. 32227703588 डॉ. उमेश पुरी के नाम में जमा करा सकते हैं। पुस्तकें रजिस्टर्ड पार्सल से भेज दी जाएंगी। किसी अन्य जानकारी के लिए नीचे लिखे फोन नं. पर संपर्क करें।
ज्‍योतिष निकेतन, मेरठ
0121-2765639, 4050465 मोबाईल: 09719103988

विज्ञापन