नए रूप रंग के साथ अपने प्रिय ब्‍लॉग पर आप सबका हार्दिक स्‍वागत है !

ताज़ा प्रविष्ठियां

संकल्प एवं स्वागत्

ज्योतिष निकेतन संदेश हिन्‍दी की मासिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित लेख इस ब्लॉग पर जीवन को सार्थक बनाने हेतु आपके लिए समर्पित हैं। आप इसके पाठक हैं, इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे। हमें विश्‍वास है कि आप सब ज्योतिष, हस्तरेखा, अंक ज्योतिष, वास्तु, अध्यात्म सन्देश, योग, तंत्र, राशिफल, स्वास्थ चर्चा, भाषा ज्ञान, पूजा, व्रत-पर्व विवेचन, बोधकथा, मनन सूत्र, वेद गंगाजल, अनुभूत ज्ञान सूत्र, कार्टून और बहुत कुछ सार्थक ज्ञान को पाने के लिए इस ब्‍लॉग पर आते हैं। ज्ञान ही सच्चा मित्र है और कठिन परिस्थितियों में से बाहर निकाल लेने में समर्थ है। अत: निरन्‍तर ब्‍लॉग पर आईए और अपनी टिप्‍पणी दीजिए। आपकी टिप्‍पणी ही हमारे परिश्रम का प्रतिफल है।

शुक्रवार, अप्रैल 22, 2011

सफलता किसको मिलती है?




    सफलता उसको मिलती है जिसके भीतर पाने की इच्‍छा होती है।
    सफलता पाने की इच्‍छा के साथ-साथ सफलता पाने की रीति मालूम होनी चाहिए।
    इसके बाद आपको त‍ब तक निरन्‍तर प्रयत्‍न करते रहना चाहिए जब तक सफलता न मिले।
    सफलता पाने की चाह ही काफी नहीं है। उसके लिए प्रयत्‍न करना अनिवार्य है।  ऐसा भी नहीं है कि आप प्रयत्‍न नहीं करते हैं। प्रयत्‍न करते हैं, करते ही जाते हैं, लेकिन फिर भी सफल नहीं हो पाते हैं। दरअसल होता यह है कि हम बेतहाशा प्रयत्‍न करते जाते हैं, लेकिन अपने दोषों और कमियों को दूर करना नहीं भूल जाते हैं।
    अतीत को विस्‍मरण कर बैठते हैं, उसकी जांच-पड़ताल करना ही नहीं चाहते हैं। अतीत की जांच-पड़ताल हमें बहुत कुछ सिखाती है। प्रत्‍येक असफलता एक नया पाठ सिखाती है यानि सफलता का एक सूत्र देती है।
    किसी भी योजना को पूर्ण करने के लिए दो प्रकार होते हैं, एक सकारात्‍मक और दूसरा नकारात्‍मक। कहने का तात्‍पर्य यह है कि धनी बनने के लिए या तो आय बढ़ाएं या व्‍यय घटाएं। इसी प्रकार आप उत्‍पादन बढ़ाना चाहते हैं तो आपको कार्य की अवधि बढ़ानी होगी या फिर कार्य की समस्‍त विघ्‍नों या व्‍यर्थ के विलम्‍ब को दूर करना होगा।
    सफलता के प्रदेश की यात्रा प्रारम्‍भ करने से पूर्व अपनी समस्‍त दुर्गुणों, कमियों और समस्‍त नकारात्‍मक विचारों व पछतावों को त्‍याज्‍य देना चाहिए। मन में सफलता पाने का दृढ़ विश्‍वास होना चाहिए। आपको इस यात्रा में सफल्‍ाता मिले इसलिए परमात्‍मा को अपना सहयोगी अवश्‍य मानें क्‍योंकि ऐसा करने से आपमें एक विश्‍वास उत्‍पन्‍न होता है। जब आपके मन में होगा कि मुझे सफलता अवश्‍य मिलेगी और प्रयत्‍न्‍ा भी योजना बद्ध होगा तो ईश्‍वर आपका अपने आप सहयोगी बन जाएगा और आपको सफलता के प्रदेश की यात्रा कराकर  ही मानेगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्‍पणी देकर अपने विचारों को अभिव्‍यक्‍त करें।

पत्राचार पाठ्यक्रम

ज्योतिष का पत्राचार पाठ्यक्रम

भारतीय ज्योतिष के एक वर्षीय पत्राचार पाठ्यक्रम में प्रवेश लेकर ज्योतिष सीखिए। आवेदन-पत्र एवं विस्तृत विवरणिका के लिए रु.50/- का मनीऑर्डर अपने पूर्ण नाम व पते के साथ भेजकर मंगा सकते हैं। सम्पर्कः डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर' ज्योतिष निकेतन 1065/2, शास्त्री नगर, मेरठ-250 005
मोबाईल-09719103988, 01212765639, 01214050465 E-mail-jyotishniketan@gmail.com

पुराने अंक

ज्योतिष निकेतन सन्देश
(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक)
स्टॉक में रहने तक मासिक पत्रिका के प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम, षष्‍ठ एवं सप्‍तम वर्ष के पुराने अंक 1920 पृष्ठ, सजिल्द, गूढ़ ज्ञान से परिपूर्ण और संग्रहणीय हैं। सातों पुस्तकें पत्र लिखकर मंगा सकते हैं। आप रू.1950/-का ड्राफ्‌ट या मनीऑर्डर डॉ.उमेश पुरी के नाम से बनवाकर ज्‍योतिष निकेतन, 1065, सेक्‍टर 2, शास्‍त्री नगर, मेरठ-250005 के पते पर भेजें अथवा उपर्युक्त राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अकाउंट नं. 32227703588 डॉ. उमेश पुरी के नाम में जमा करा सकते हैं। पुस्तकें रजिस्टर्ड पार्सल से भेज दी जाएंगी। किसी अन्य जानकारी के लिए नीचे लिखे फोन नं. पर संपर्क करें।
ज्‍योतिष निकेतन, मेरठ
0121-2765639, 4050465 मोबाईल: 09719103988

विज्ञापन