नए रूप रंग के साथ अपने प्रिय ब्‍लॉग पर आप सबका हार्दिक स्‍वागत है !

ताज़ा प्रविष्ठियां

संकल्प एवं स्वागत्

ज्योतिष निकेतन संदेश हिन्‍दी की मासिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित लेख इस ब्लॉग पर जीवन को सार्थक बनाने हेतु आपके लिए समर्पित हैं। आप इसके पाठक हैं, इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे। हमें विश्‍वास है कि आप सब ज्योतिष, हस्तरेखा, अंक ज्योतिष, वास्तु, अध्यात्म सन्देश, योग, तंत्र, राशिफल, स्वास्थ चर्चा, भाषा ज्ञान, पूजा, व्रत-पर्व विवेचन, बोधकथा, मनन सूत्र, वेद गंगाजल, अनुभूत ज्ञान सूत्र, कार्टून और बहुत कुछ सार्थक ज्ञान को पाने के लिए इस ब्‍लॉग पर आते हैं। ज्ञान ही सच्चा मित्र है और कठिन परिस्थितियों में से बाहर निकाल लेने में समर्थ है। अत: निरन्‍तर ब्‍लॉग पर आईए और अपनी टिप्‍पणी दीजिए। आपकी टिप्‍पणी ही हमारे परिश्रम का प्रतिफल है।

मंगलवार, अप्रैल 05, 2011

उन्‍नति हेतु आत्‍मबल आवश्‍यक है!


    सबसे बड़ा बल आत्‍मबल है! आत्‍मबल के बिना बलवान होना महत्‍वपूर्ण नहीं है, आवश्‍यक है बल का सदुपयोग करने की कुशलता से ही सामर्थ्‍य का लाभ उठाया जाता है। बल और साधन के दुरूपयोग से निश्चित रूप से हानि ही होती है जोकि सबकुछ नष्‍ट कर देती है। आत्‍मबल की आवश्‍यकता सभी उपलब्‍ध शक्तियों के ऊपर नियन्‍त्रण करने के लिए होती है।
    हमारे जड़ शरीर में चेतन आत्‍मा विद्यमान है।  आत्‍मबल आत्‍मा का बल है। उन्‍नति हेतु आत्‍मबल आवश्‍यक है। शरीरिक बल की महत्ता तभी सार्थक होती है जब उसके साथ आत्‍मबल जुड़ता है। विश्‍व के समस्‍त अग्रणीय लोग आत्‍मविश्‍वासी होते हैं। आत्‍मविश्‍वास आत्‍मबल से ही उपजता है। आत्‍मविश्‍वासी के पास उत्‍साह होता है और वह पूर्ण उत्‍साह के साथ समर्पण भाव से कार्यरत रहता है, उसके समक्ष उसका लक्ष्‍य होता है, जिसे पूर्ण करना ही सर्वपरि होता है। जीवन में किसी भी क्षेत्र में उन्‍नति के लिए आत्‍मविश्‍वास की आवश्‍यकता होती है। आत्‍मा से मिलता है आत्‍मविश्‍वास। आत्‍मा में विश्‍वास करना ही स्‍वयं में विश्‍वास करना है और इसका प्रतिफल है आत्‍मविश्‍वास। जो आत्‍मा पर विश्‍वास करता है वह परमात्‍मा पर विश्‍वास करता है। ऐसे में उसे परम शक्ति का सहारा मिल जाता है और फिर उसके पास किसी बात की कमी नहीं रहती है। उसका स्‍वयं पर विश्‍वास बढ़ता जाता है जिस कारण योग्‍यता और कार्यक्षमता बढ़ जाती है।
    जितना बड़ा लक्ष्‍य बनाएंगे उतना लम्‍बा मार्ग होगा उस तक पहुंचने का। ऐसे में अधिक आत्‍मविश्‍वास की आवश्‍यकता होगी। आपके पास जितना आत्‍मविश्‍वास होगा उतना आपका स्‍वयं और अपनी योग्‍यता पर विश्‍वास होगा। प्रबल आत्‍मविश्‍वास सफलता की गारन्‍टी है और लक्ष्‍य तक पहुंचने का प्रमाणपत्र। आत्‍मविश्‍वास से प्रतिकूल परिस्थितियां भी अनुकूल बन जाती हैं और उन्‍नति का मार्ग प्रशस्‍त होता है। स्‍वामी विवेकानन्‍द ने कहा भी है कि आत्‍मविश्‍वास सदृश दूसरा मित्र नहीं, आत्‍मविश्‍वास के कारण दुर्गम पथ भी सुगम बन जाते हैं, बाधाएं भी मंजिल तक पहुंचने की सीढि़यां बन जाती हैं। शरीर और मन की शक्तियां आत्‍मविश्‍वासी के ईशारे पर नाचती हैं। यह सत्‍य है कि जो आत्‍मविश्‍वासी और आत्‍मनिर्णायक है, उसी के पास अपनी बुद्धि और विवेक होता है, ऐसे में ये आत्‍मनिर्भर और स्‍वावलम्‍बी बनकर उन्‍नति पथ पर अग्रसर होते हुए सफल एवं सन्‍तुष्‍ट होते हैं। कठिनाईयां इनके मार्ग से स्‍वयं हटती जाती हैं और उन्‍नति इनके चरणों में लोटने लगती है। मूलत: आत्‍मबल बढ़ाएं और लक्ष्‍य संग जीएं, सबकुछ मुट्ठी में होगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्‍पणी देकर अपने विचारों को अभिव्‍यक्‍त करें।

पत्राचार पाठ्यक्रम

ज्योतिष का पत्राचार पाठ्यक्रम

भारतीय ज्योतिष के एक वर्षीय पत्राचार पाठ्यक्रम में प्रवेश लेकर ज्योतिष सीखिए। आवेदन-पत्र एवं विस्तृत विवरणिका के लिए रु.50/- का मनीऑर्डर अपने पूर्ण नाम व पते के साथ भेजकर मंगा सकते हैं। सम्पर्कः डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर' ज्योतिष निकेतन 1065/2, शास्त्री नगर, मेरठ-250 005
मोबाईल-09719103988, 01212765639, 01214050465 E-mail-jyotishniketan@gmail.com

पुराने अंक

ज्योतिष निकेतन सन्देश
(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक)
स्टॉक में रहने तक मासिक पत्रिका के प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम, षष्‍ठ एवं सप्‍तम वर्ष के पुराने अंक 1920 पृष्ठ, सजिल्द, गूढ़ ज्ञान से परिपूर्ण और संग्रहणीय हैं। सातों पुस्तकें पत्र लिखकर मंगा सकते हैं। आप रू.1950/-का ड्राफ्‌ट या मनीऑर्डर डॉ.उमेश पुरी के नाम से बनवाकर ज्‍योतिष निकेतन, 1065, सेक्‍टर 2, शास्‍त्री नगर, मेरठ-250005 के पते पर भेजें अथवा उपर्युक्त राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अकाउंट नं. 32227703588 डॉ. उमेश पुरी के नाम में जमा करा सकते हैं। पुस्तकें रजिस्टर्ड पार्सल से भेज दी जाएंगी। किसी अन्य जानकारी के लिए नीचे लिखे फोन नं. पर संपर्क करें।
ज्‍योतिष निकेतन, मेरठ
0121-2765639, 4050465 मोबाईल: 09719103988

विज्ञापन