नए रूप रंग के साथ अपने प्रिय ब्‍लॉग पर आप सबका हार्दिक स्‍वागत है !

ताज़ा प्रविष्ठियां

संकल्प एवं स्वागत्

ज्योतिष निकेतन संदेश हिन्‍दी की मासिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित लेख इस ब्लॉग पर जीवन को सार्थक बनाने हेतु आपके लिए समर्पित हैं। आप इसके पाठक हैं, इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे। हमें विश्‍वास है कि आप सब ज्योतिष, हस्तरेखा, अंक ज्योतिष, वास्तु, अध्यात्म सन्देश, योग, तंत्र, राशिफल, स्वास्थ चर्चा, भाषा ज्ञान, पूजा, व्रत-पर्व विवेचन, बोधकथा, मनन सूत्र, वेद गंगाजल, अनुभूत ज्ञान सूत्र, कार्टून और बहुत कुछ सार्थक ज्ञान को पाने के लिए इस ब्‍लॉग पर आते हैं। ज्ञान ही सच्चा मित्र है और कठिन परिस्थितियों में से बाहर निकाल लेने में समर्थ है। अत: निरन्‍तर ब्‍लॉग पर आईए और अपनी टिप्‍पणी दीजिए। आपकी टिप्‍पणी ही हमारे परिश्रम का प्रतिफल है।

सोमवार, मार्च 28, 2011

संकल्प शक्ति से सफलता कैसे मिले? -योगानन्द स्वामी


   
     मन की शक्ति अनमोल है। किसी को अभिप्रेरित करते समय भी यही इच्छा करनी चाहिए कि अमुक व्यक्ति मेरे पास आ रहा है, वह अवश्य मेरे पास आएगा या अमुक को मेरी बात माननी ही होगी।
यह शक्ति कैसे प्राप्त होती है। इसे प्राप्त करने के लिए सबसे पहले इन चारों को सिद्ध करना होगा, ये चार हैं-
     1. भय, 2. विश्वास, 3. सद्भावना एवं 4. ईश्वर कृपा।
     1. भय-भय का त्याग करना होगा। भय से विपत्ति आती है, भय से शरीर पीला पड़ जाता है एवं मनोबल कम हो जाता है। मनोबल कम होने से मन अस्थिर हो जाता है।
     2. विश्वास-विश्वास में बहुत बल होता है। किसी भी बात पर या किसी भी इच्छा को चाहने से पूर्व हमें यह अवश्य निश्चय कर लेना चाहिए कि अमुक कार्य वैसा ही होगा जैसा मैं कहूँगा।
     3. सद्भावना-संकल्प शक्ति के पार्श्व में सद्भावना होनी चाहिए। सद्भावना के बिना इस शक्ति का सदुपयोग सम्भव नहीं है। यह जान लें कि संकल्प शक्ति किसी को कष्ट देने या किसी का विनाश करने के लिए नहीं है। यह शक्ति आत्मरक्षा के लिए है। इसलिए सद्भावना आवश्यक है और निष्ठापूर्वक अच्छी-अच्छी बातों का की संकल्प करना चाहिए। सुसंकल्प ही सिद्ध होते हैं और उनमें संकल्प शक्ति भी अटूट एवं प्रभावी होती है।
    4. ईश्वर कृपा-किसी भी कार्य की सिद्धि के लिए ईश्वर कृपा अवश्य चाहिए। उसकी कृपा के बिना कार्य बन पाना सम्भव नहीं है। ईश्वर कृपा से साधक को हर समय यह महसूस करना चाहिए कि मुझ पर ईश्वर की अत्यन्त कृपा है। वह दयालु है, वह मुझ पर अनवरत कृपा कर रहा है।
इच्छा शक्ति की क्रिया 
     आप सोच रहे होंगे कि इच्छा शक्ति का प्रयोग कैसे करें? इसकी क्रिया क्या होगी? जब मन की विभिन्न प्रक्रियाओं द्वारा इच्छा-शक्ति का निर्माण हो गया है तो फिर उसका किस प्रकार प्रयोग किया जाए।
इच्छा शक्ति द्वारा अपने विचार दूसरों तक किस प्रकार पहुंचाए जाएं। आपने बचपन में ऐसा अवश्य किया होगा, नदी या झील में एक कंकड़ दाल देने से उसमें तरंगे उठने लगती हैं। इसी प्रकार शब्द की तरंगे भी दूर-दूर तक फैलकर सारे अन्तरिक्ष में फैल जाती हैं और कभी नष्ट नहीं होती हैं। यह कार्य वायुमण्डल में व्याप्त ईथर करता है। कहते भी अक्षर अर्थात्‌ जिसका क्षय न हो वही अक्षर है। शब्द अक्षरों का ही समूह होता है। वायुमण्डल में व्याप्त ध्वनियों को विशेष यन्त्र द्वारा पकड़कर रिकार्ड किया जा सकता है। शब्द वायुमण्डल में उसी प्रकार का स्वर या ध्वनि उत्पन्न करता है जिस प्रकार नदी में डाले गए कंकड़ से तरंगे उठने लगती हैं।
     वस्तुतः स्पष्ट है कि आप जीवन रूपी नदी में जिस प्रकार के संकल्प डालेंगे, उसी प्रकार की लहरों का उद्वेलन होगा। यह सब जानते हैं कि सीप में स्वाति-बूंद के पहुंचने से मोती बन जाता है। मन भी एक सीप है, उसमें संकल्प रूपी स्वाति बूंद डालने से सात्त्िवक संकल्प का निर्माण होगा जिससे जो चाहे वो सिद्ध करने की सामर्थ्य आ जाएगी।
     निष्कर्षतः आप यह कह सकते हैं कि उज्ज्वल भविष्य हेतु लक्ष्य की प्राप्ति में सतत्‌ प्रयत्न हेतु दृढ़ संकल्प सफलता का सोपान है! उन्नति का पथ ही विकास मार्ग है और इस मार्ग पर कठिनाईयां की कंकरीट बिछी हुई है। जो व्यक्ति जीवन में कठिनाईयों से घबराता है, उसे उन्नति पथ पर जाने की आकांक्षा कदापि नहीं करनी चाहिए। उन्नति का अर्थ है-ऊंचाई। यह सभी जानते हैं कि ऊंचाई पर चढ़ने के लिए अधिक परिश्रम की आवश्यकता होती है। उन्नति पथ ऐसा ही है और यदि यह कठिनाईयों की कंकरीट से रहित होता तो सभी उन्नति कर जाते। कार्य के प्रारम्भ करने से पूर्व यदि मन में दृढ़ संकल्प हो तो धैर्य सहित किया गया प्रयास से कठिनाईयां स्वतः दूर हो जाती हैं। अतः यह जान लें कि संकल्प की शक्ति अटूट है और इसकी प्रतिक्रिया इतनी प्रचण्ड है कि कार्य की पूर्णतः निश्चित है। इसीलिए ऐसा साधक जिसकी संकल्प शक्ति अटूट एवं प्रबल है, वह अपने कार्य मनोनुरूप बना लेता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्‍पणी देकर अपने विचारों को अभिव्‍यक्‍त करें।

पत्राचार पाठ्यक्रम

ज्योतिष का पत्राचार पाठ्यक्रम

भारतीय ज्योतिष के एक वर्षीय पत्राचार पाठ्यक्रम में प्रवेश लेकर ज्योतिष सीखिए। आवेदन-पत्र एवं विस्तृत विवरणिका के लिए रु.50/- का मनीऑर्डर अपने पूर्ण नाम व पते के साथ भेजकर मंगा सकते हैं। सम्पर्कः डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर' ज्योतिष निकेतन 1065/2, शास्त्री नगर, मेरठ-250 005
मोबाईल-09719103988, 01212765639, 01214050465 E-mail-jyotishniketan@gmail.com

पुराने अंक

ज्योतिष निकेतन सन्देश
(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक)
स्टॉक में रहने तक मासिक पत्रिका के प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम, षष्‍ठ एवं सप्‍तम वर्ष के पुराने अंक 1920 पृष्ठ, सजिल्द, गूढ़ ज्ञान से परिपूर्ण और संग्रहणीय हैं। सातों पुस्तकें पत्र लिखकर मंगा सकते हैं। आप रू.1950/-का ड्राफ्‌ट या मनीऑर्डर डॉ.उमेश पुरी के नाम से बनवाकर ज्‍योतिष निकेतन, 1065, सेक्‍टर 2, शास्‍त्री नगर, मेरठ-250005 के पते पर भेजें अथवा उपर्युक्त राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अकाउंट नं. 32227703588 डॉ. उमेश पुरी के नाम में जमा करा सकते हैं। पुस्तकें रजिस्टर्ड पार्सल से भेज दी जाएंगी। किसी अन्य जानकारी के लिए नीचे लिखे फोन नं. पर संपर्क करें।
ज्‍योतिष निकेतन, मेरठ
0121-2765639, 4050465 मोबाईल: 09719103988

विज्ञापन