नए रूप रंग के साथ अपने प्रिय ब्‍लॉग पर आप सबका हार्दिक स्‍वागत है !

ताज़ा प्रविष्ठियां

संकल्प एवं स्वागत्

ज्योतिष निकेतन संदेश हिन्‍दी की मासिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित लेख इस ब्लॉग पर जीवन को सार्थक बनाने हेतु आपके लिए समर्पित हैं। आप इसके पाठक हैं, इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे। हमें विश्‍वास है कि आप सब ज्योतिष, हस्तरेखा, अंक ज्योतिष, वास्तु, अध्यात्म सन्देश, योग, तंत्र, राशिफल, स्वास्थ चर्चा, भाषा ज्ञान, पूजा, व्रत-पर्व विवेचन, बोधकथा, मनन सूत्र, वेद गंगाजल, अनुभूत ज्ञान सूत्र, कार्टून और बहुत कुछ सार्थक ज्ञान को पाने के लिए इस ब्‍लॉग पर आते हैं। ज्ञान ही सच्चा मित्र है और कठिन परिस्थितियों में से बाहर निकाल लेने में समर्थ है। अत: निरन्‍तर ब्‍लॉग पर आईए और अपनी टिप्‍पणी दीजिए। आपकी टिप्‍पणी ही हमारे परिश्रम का प्रतिफल है।

मंगलवार, सितंबर 07, 2010

सफलता के दस अनमोल सूत्र


1- शिक्षक ज्ञान रूपी कमरे का द्वार खोलता है, लेकिन कमरे में प्रवेश तो आपको ही करना होगा।
2- मैं क्‍या कर सकता हूं, इस दृष्टि से आप अपनी ओर देखते हैं, लेकिन ध्‍यान रखें दूसरे इस दृष्टि से आपकी ओर देखते हैं कि आपने क्‍या किया है
3- किसी को यह बताने की आवश्‍यकता नहीं है कि आप क्‍या कर सकते हैं, पहले कीजिए फिर बताइए। वैसे भी बताने की आवश्‍यकता नहीं है क्‍योंकि किया हुआ अपने आप दिखाई देता है।
4-काम प्रारम्‍भ कीजिए क्‍योंकि प्रारम्‍भ करते ही बुद्धि दौड़ने लगती है, निरन्‍तर करते रहिए, काम शतप्रतिशत पूर्ण हो जाएगा।
5-यह आप जानते हैं कि परिश्रम का कोई विकल्‍प नहीं है, लेकिन फिर भी प्रतीक्षा में रहते हैं कि न करनी पड़े और कार्य पूरा हो जाए।
6-थके बिना सतत् कार्य करें क्‍योंकि थकना एक बहाना है आराम का। सतत् कार्य सदैव सफल होते हैं।
7-प्रारम्‍भ किया कार्य कभी नहीं छोड़ना, छोड़ना ही नहीं है बिना पूर्ण किए। 
8-यदि आपमें लगन नहीं है तो आप कितने भी बड़े विद्वान क्‍यों न हों कुछ नहीं कर सकते हैं।
9-कुछ भी करने से पूर्व भय सताता है तो तुरन्‍त कार्य प्रारम्‍भ कर दें। कार्य प्रारम्‍भ होते ही धीरे-धीरे भय स्‍वत: भाग जाएगा।  खतरा जानकर कुछ नहीं कर रहे हैं तो उससे भी बड़ा खतरा आपके सामने होगा। कुछ न करने में वास्‍तविक खतरा है, कुछ करने में तो खतरा भी अपने आप दूर हो जाता है। इसलिए भयभीत रहने की अपेक्षा एक बार खतरा अवश्‍य मोल लें।
10-असफलता से घबराएं नहीं, क्‍योंकि असफलता की कोख से सफलता का सूत्र निकलता है। यह जान लें कि जितनी अधिक असफलताएं होंगी उतनी बड़ी सफलता भी मिलेगी। 

1 टिप्पणी:

टिप्‍पणी देकर अपने विचारों को अभिव्‍यक्‍त करें।

पत्राचार पाठ्यक्रम

ज्योतिष का पत्राचार पाठ्यक्रम

भारतीय ज्योतिष के एक वर्षीय पत्राचार पाठ्यक्रम में प्रवेश लेकर ज्योतिष सीखिए। आवेदन-पत्र एवं विस्तृत विवरणिका के लिए रु.50/- का मनीऑर्डर अपने पूर्ण नाम व पते के साथ भेजकर मंगा सकते हैं। सम्पर्कः डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर' ज्योतिष निकेतन 1065/2, शास्त्री नगर, मेरठ-250 005
मोबाईल-09719103988, 01212765639, 01214050465 E-mail-jyotishniketan@gmail.com

पुराने अंक

ज्योतिष निकेतन सन्देश
(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक)
स्टॉक में रहने तक मासिक पत्रिका के प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम, षष्‍ठ एवं सप्‍तम वर्ष के पुराने अंक 1920 पृष्ठ, सजिल्द, गूढ़ ज्ञान से परिपूर्ण और संग्रहणीय हैं। सातों पुस्तकें पत्र लिखकर मंगा सकते हैं। आप रू.1950/-का ड्राफ्‌ट या मनीऑर्डर डॉ.उमेश पुरी के नाम से बनवाकर ज्‍योतिष निकेतन, 1065, सेक्‍टर 2, शास्‍त्री नगर, मेरठ-250005 के पते पर भेजें अथवा उपर्युक्त राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अकाउंट नं. 32227703588 डॉ. उमेश पुरी के नाम में जमा करा सकते हैं। पुस्तकें रजिस्टर्ड पार्सल से भेज दी जाएंगी। किसी अन्य जानकारी के लिए नीचे लिखे फोन नं. पर संपर्क करें।
ज्‍योतिष निकेतन, मेरठ
0121-2765639, 4050465 मोबाईल: 09719103988

विज्ञापन