नए रूप रंग के साथ अपने प्रिय ब्‍लॉग पर आप सबका हार्दिक स्‍वागत है !

ताज़ा प्रविष्ठियां

संकल्प एवं स्वागत्

ज्योतिष निकेतन संदेश हिन्‍दी की मासिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित लेख इस ब्लॉग पर जीवन को सार्थक बनाने हेतु आपके लिए समर्पित हैं। आप इसके पाठक हैं, इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे। हमें विश्‍वास है कि आप सब ज्योतिष, हस्तरेखा, अंक ज्योतिष, वास्तु, अध्यात्म सन्देश, योग, तंत्र, राशिफल, स्वास्थ चर्चा, भाषा ज्ञान, पूजा, व्रत-पर्व विवेचन, बोधकथा, मनन सूत्र, वेद गंगाजल, अनुभूत ज्ञान सूत्र, कार्टून और बहुत कुछ सार्थक ज्ञान को पाने के लिए इस ब्‍लॉग पर आते हैं। ज्ञान ही सच्चा मित्र है और कठिन परिस्थितियों में से बाहर निकाल लेने में समर्थ है। अत: निरन्‍तर ब्‍लॉग पर आईए और अपनी टिप्‍पणी दीजिए। आपकी टिप्‍पणी ही हमारे परिश्रम का प्रतिफल है।

बुधवार, अगस्त 25, 2010

समय का प्रबन्धन करें!



आप किसी से भी बात करने का प्रयास करेंगे तो आपको महसूस होगा कि वे सब बहुत व्यस्त हैं। किसी से काम की बात करेंगे तो उत्तर मिलेगा-अभी नहीं, अभी समय नहीं है। यह अच्छी बात है कि सभी व्यस्त रहें, कोई खाली न रहे। लोग दिनभर भागते रहते हैं और सायं तक हंसने-खेलने का समय तक नहीं है। कार्य फिर भी अधूरे हैं और हर समय समय की कमी रहती है। समयानुरूप प्रतिदिन सफल और सुखी होना है तो इसका सरल उपाय है-समय का प्रबन्धन। अपने समय का प्रबन्धन करना ही सफल होने का सरल सूत्र है। एक सप्ताह में जो भी कार्य आपको करने हैं उसकी समय-सूची बना लें। यह सूची आपकी मार्गदर्शिका होगी। आपको तो इस सूची के अनुरूप अपने कार्यों को करना है। इसमें लक्ष्य की पूर्ति और समय बचाने का पूर्ण प्रयास भी करना है। सही बात तो यह है कि हम लोग अनजाने में समय व्यर्थ करते रहते हैं। इसका अनुमान आपको होने लगेगा जब आप इस सूची के अनुरूप प्रयास करेंगे। यह समझ लें कि बीता समय कभी वापिस नहीं आता है। हमें यह ध्यान रखना है कि दिन भर के 24 घंटे या 1440मिनट किसी भी प्रकार से व्यर्थ न जाएं। सभी को दिन-रात में 24घंटे ही मिलते हैं। आज मनोरंजन के रोग ने समय के महत्व को इतना घटा दिया है कि जीवन के शेष ध्येय गौण लगने लगे हैं। सभी हर समय सुविधा और मनोरंजन चाते हैं, जबकि सफल जीवन के लिए ये दोनों ही सबसे बड़ी बाधाएं हैं।  समय के प्रबन्धन से तात्पर्य यह है कि महत्वहीन कार्यों में समय न गंवाना और जो करना है उसको समयानुरूप लक्ष्य के अनुसार करना। मूलतः हमे वही करना, सुनना, पढ़ना और देखना चाहिए जो लक्ष्य की पूर्ति में सहायक हो। ऐसा करने पर समय कम नहीं रहेगा और सदैव आपके पास बचा रहेगा।
ऐसे में आप समय के प्रबन्धन से आसानी से सफलता की सीढ़ियां चढ़ सकेंगे। प्रत्येक सफल व्यक्ति की सफलता का रहस्य सफलता का प्रबन्धन ही है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्‍पणी देकर अपने विचारों को अभिव्‍यक्‍त करें।

पत्राचार पाठ्यक्रम

ज्योतिष का पत्राचार पाठ्यक्रम

भारतीय ज्योतिष के एक वर्षीय पत्राचार पाठ्यक्रम में प्रवेश लेकर ज्योतिष सीखिए। आवेदन-पत्र एवं विस्तृत विवरणिका के लिए रु.50/- का मनीऑर्डर अपने पूर्ण नाम व पते के साथ भेजकर मंगा सकते हैं। सम्पर्कः डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर' ज्योतिष निकेतन 1065/2, शास्त्री नगर, मेरठ-250 005
मोबाईल-09719103988, 01212765639, 01214050465 E-mail-jyotishniketan@gmail.com

पुराने अंक

ज्योतिष निकेतन सन्देश
(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक)
स्टॉक में रहने तक मासिक पत्रिका के प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम, षष्‍ठ एवं सप्‍तम वर्ष के पुराने अंक 1920 पृष्ठ, सजिल्द, गूढ़ ज्ञान से परिपूर्ण और संग्रहणीय हैं। सातों पुस्तकें पत्र लिखकर मंगा सकते हैं। आप रू.1950/-का ड्राफ्‌ट या मनीऑर्डर डॉ.उमेश पुरी के नाम से बनवाकर ज्‍योतिष निकेतन, 1065, सेक्‍टर 2, शास्‍त्री नगर, मेरठ-250005 के पते पर भेजें अथवा उपर्युक्त राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अकाउंट नं. 32227703588 डॉ. उमेश पुरी के नाम में जमा करा सकते हैं। पुस्तकें रजिस्टर्ड पार्सल से भेज दी जाएंगी। किसी अन्य जानकारी के लिए नीचे लिखे फोन नं. पर संपर्क करें।
ज्‍योतिष निकेतन, मेरठ
0121-2765639, 4050465 मोबाईल: 09719103988

विज्ञापन