नए रूप रंग के साथ अपने प्रिय ब्‍लॉग पर आप सबका हार्दिक स्‍वागत है !

ताज़ा प्रविष्ठियां

संकल्प एवं स्वागत्

ज्योतिष निकेतन संदेश हिन्‍दी की मासिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित लेख इस ब्लॉग पर जीवन को सार्थक बनाने हेतु आपके लिए समर्पित हैं। आप इसके पाठक हैं, इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे। हमें विश्‍वास है कि आप सब ज्योतिष, हस्तरेखा, अंक ज्योतिष, वास्तु, अध्यात्म सन्देश, योग, तंत्र, राशिफल, स्वास्थ चर्चा, भाषा ज्ञान, पूजा, व्रत-पर्व विवेचन, बोधकथा, मनन सूत्र, वेद गंगाजल, अनुभूत ज्ञान सूत्र, कार्टून और बहुत कुछ सार्थक ज्ञान को पाने के लिए इस ब्‍लॉग पर आते हैं। ज्ञान ही सच्चा मित्र है और कठिन परिस्थितियों में से बाहर निकाल लेने में समर्थ है। अत: निरन्‍तर ब्‍लॉग पर आईए और अपनी टिप्‍पणी दीजिए। आपकी टिप्‍पणी ही हमारे परिश्रम का प्रतिफल है।

मंगलवार, जून 08, 2010

नाड़ी शोधन की उपयोगिता -योगानन्द स्वामी



नाड़ी मानसिक मार्ग को कहते हैं। इस भौतिक शरीर में नाड़ियां प्रवाहमान प्राण का मार्ग है। नाड़ी ज्ञान आवश्यक है। स्नायु तथा नाड़ियां दो अलग-अलग वस्तुएं होते हुए भी इनके विषय में भ्रम उत्पन्न हो जाता है। यह जान लें कि स्नायुओं का सम्बन्ध भौतिक शरीर से और नाड़ियों का सम्बन्ध प्राणिक शरीर व सूक्ष्म कोषों से है। नाड़िया शरीर के भीतर प्राण के यातायात स्नायु संस्थान को शक्ति प्रदान करती तथा उसे आगे-पीछे इच्छित स्थान पर ले जाती हैं। कुण्डलिनी योगानुसार शरीर में 72000 या इससे भी अधिक नाड़ियां हैं जिनसे प्राण या अन्यायन्य ऊर्जाएं विद्युत तरंगों सदृश बहती हैं। ये शरीर के विभिन्न कोशों  और अंगों के स्वास्थ्य तथा तालबद्धता को स्वस्थ रखती है। इनमें से दस नाड़ियां प्रमुख हैं जोकि शरीर में चेतना तथा प्राण का वितरण व नियन्त्रण करती हैं। किसी भी नाड़ी के दूषित होने पर वहां रोग उत्पन्न हो जाता है। सिद्धासन लगाने से इन नाड़ियों का शोधन होता है। 
प्रमुख दस नाड़ियां इस प्रकार हैं-इड़ा, पिंगला, सुषुम्ना, गान्धारी, हस्ति-जिह्ना, पूषा, यशस्विनी, अलम्बुषा, कुहू व शंखिनी।
मेरूदण्ड के बायें भाग में इड़ा, दाहिने भाग में पिंगला, मध्य में सुषुम्ना, बायें नेत्र में गांधारी, दायें नेत्र में हस्ति-जिह्ना, बायें कान में यशस्विनी, दायें कान में पूषा, मुख में अलम्बुषा, लिंग में में कुहु तथा गुदा में शंखिनी का वास है। अतः शरीर के दस द्वारों में दस नाड़ियां विद्यमान हैं।
दस में भी तीन नाड़ियां प्रमुख हैं जोकि समस्त पर नियन्त्रण रखती हैं। ये तीन हैं-
1  इड़ा
2. पिंगला
3. सुषुम्ना 
इड़ा बायें नासारन्ध्र से चलने वाली इन्द्र नाड़ी है जिसका रंग शुभ है और इसे अमृत विग्रहा भी कहते हैं।
पिंगला दायें नासारन्ध्र से चलने वाली सूर्य नाड़ी है जिसका रंग लाल है औ इसे रौद्रात्मिका भी कहते हैं।
ये दोनों नाड़िया काल स्वरूप दिखती हैं। जब इनकी समगति होती है तो सुषुम्ना नाड़ी में इसका लय होता है। इसी अवस्था में कुण्डलिनी प्रवेश करती है। 
मूलाधार से जहां से ये तीनों निकलती हैं, उसे मुक्त त्रिवेणी और आज्ञा चक्र के समीप जहां ये मिलती हैं, उसे युक्त त्रिवेणी कहते हैं। इड़ा गंगा रूपा, पिंगला यमुना स्वरूपा एवं सुषुम्ना सरस्वती रूपिणी है। ये तीनों आज्ञा चक्र के ऊपर मिलती हैं उस स्थान को त्रिकुट या त्रिवेणी कहते हैं।
बाह्‌य स्नान से कोई फल नहीं मिलता है। 
गुरुकृपा से आत्मतीर्थ में आज्ञाचक्र के ऊपर तीर्थ राज त्रिवेणी में मानस स्नान अर्थात्‌ यौगिक स्नान करता है, वह निश्चय ही मुक्ति पद पाता है। 
इन तीन नाड़ियों में भी सुषुम्ना सर्वप्रधान है। इसके गर्भ में वज्राणी नामक नाड़ी है जो शिश्न प्रदेश से निकलकर शिरःस्थान तक जाती है। इस वज्र नाड़ी के मध्य में त्रिलोक स्वरूपा प्रणव युक्ता एवं अन्त में मकड़ी के जाले सदृश बहुत सूक्ष्म चित्राणी नाड़ी के मध्य में एक विद्युत सदृश ब्रह्म नाड़ी है जोकि मूलाधार पद्म स्थित महादेव के मुख से निकलकर सिर स्थित सहस्त्र दल तक फैली हुई है।
सिद्धासन में बैठकर जाप किया जाए तो नाड़ियां शोधित होती हैं। जल पीकर इस जाप को किया जाए तो पिया जल नाड़ी शोधन में अवश्य काम आएगा।
ब्रह्म नाड़ी से ही योग साधना का परम फल प्राप्त होता है।  आत्मसाक्षात्कार होता है और मुक्ति लाभ मिलता है। इड़ा शीतल और पिंगला उष्ण है। इनमें से प्रत्येक नाड़ी एक घंटा चलती है। इनके चलते रहने से मुनष्य सांसारिक कर्मों में लिप्त रहता है। योगी सदैव अपने प्राण को सुषुम्ना में चलाने का प्रयास करते हैं। सुषुम्ना के समय ध्यान अच्छा लगता है। इसमें अभ्यास करने से कुण्डलिनी जागृत हो जाती है और सुषुम्ना में होकर षट्चक्रों को भेदन करती हुई ऊपर चढ़ने लगती है और साधक को आनन्द और शक्ति का अनुभव होता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्‍पणी देकर अपने विचारों को अभिव्‍यक्‍त करें।

पत्राचार पाठ्यक्रम

ज्योतिष का पत्राचार पाठ्यक्रम

भारतीय ज्योतिष के एक वर्षीय पत्राचार पाठ्यक्रम में प्रवेश लेकर ज्योतिष सीखिए। आवेदन-पत्र एवं विस्तृत विवरणिका के लिए रु.50/- का मनीऑर्डर अपने पूर्ण नाम व पते के साथ भेजकर मंगा सकते हैं। सम्पर्कः डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर' ज्योतिष निकेतन 1065/2, शास्त्री नगर, मेरठ-250 005
मोबाईल-09719103988, 01212765639, 01214050465 E-mail-jyotishniketan@gmail.com

पुराने अंक

ज्योतिष निकेतन सन्देश
(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक)
स्टॉक में रहने तक मासिक पत्रिका के प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम, षष्‍ठ एवं सप्‍तम वर्ष के पुराने अंक 1920 पृष्ठ, सजिल्द, गूढ़ ज्ञान से परिपूर्ण और संग्रहणीय हैं। सातों पुस्तकें पत्र लिखकर मंगा सकते हैं। आप रू.1950/-का ड्राफ्‌ट या मनीऑर्डर डॉ.उमेश पुरी के नाम से बनवाकर ज्‍योतिष निकेतन, 1065, सेक्‍टर 2, शास्‍त्री नगर, मेरठ-250005 के पते पर भेजें अथवा उपर्युक्त राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अकाउंट नं. 32227703588 डॉ. उमेश पुरी के नाम में जमा करा सकते हैं। पुस्तकें रजिस्टर्ड पार्सल से भेज दी जाएंगी। किसी अन्य जानकारी के लिए नीचे लिखे फोन नं. पर संपर्क करें।
ज्‍योतिष निकेतन, मेरठ
0121-2765639, 4050465 मोबाईल: 09719103988

विज्ञापन