नए रूप रंग के साथ अपने प्रिय ब्‍लॉग पर आप सबका हार्दिक स्‍वागत है !

ताज़ा प्रविष्ठियां

संकल्प एवं स्वागत्

ज्योतिष निकेतन संदेश हिन्‍दी की मासिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित लेख इस ब्लॉग पर जीवन को सार्थक बनाने हेतु आपके लिए समर्पित हैं। आप इसके पाठक हैं, इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे। हमें विश्‍वास है कि आप सब ज्योतिष, हस्तरेखा, अंक ज्योतिष, वास्तु, अध्यात्म सन्देश, योग, तंत्र, राशिफल, स्वास्थ चर्चा, भाषा ज्ञान, पूजा, व्रत-पर्व विवेचन, बोधकथा, मनन सूत्र, वेद गंगाजल, अनुभूत ज्ञान सूत्र, कार्टून और बहुत कुछ सार्थक ज्ञान को पाने के लिए इस ब्‍लॉग पर आते हैं। ज्ञान ही सच्चा मित्र है और कठिन परिस्थितियों में से बाहर निकाल लेने में समर्थ है। अत: निरन्‍तर ब्‍लॉग पर आईए और अपनी टिप्‍पणी दीजिए। आपकी टिप्‍पणी ही हमारे परिश्रम का प्रतिफल है।

गुरुवार, जून 10, 2010

शरीर में स्थित प्रमुख देवता - योगानन्‍द स्‍वामी



यह सब जानते हैं कि यद् ब्रह्माण्डे तत्‌ पिण्डे के अनुसार जैसा यह विश्व बना, वैसा ही मनुष्य का शरीर भी बना है। समस्त विश्व में जितने देवता हैं, उतने ही देवता शरीर में स्थित हैं। तभी तो यह कहा गया है कि 'देहो देवालयः प्रोक्तो जीवो देवः सनातनः।' 
हमारे शरीर में साढ़े तीन करोड़ नाड़ियां हैं और उतने ही देवता भी हैं।  उसमें और सब तो अप्रकट रूप से, किन्तु चौदह देवता अर्थात्‌ दस इन्द्रियां, चार अन्तःकरण के स्वामी प्रकट रूप में हैं। इनके बारे में यहां बताते हैं।
चक्षु के देवता सूर्य हैं। इनका निवास चक्षुओं में है। सूर्य चक्षु इन्द्रिय के देवता होने के कारण ही इससे रूप दर्शन सम्भव हो पाता है।
घ्राण के देवता अश्विनी कुमार हैं। इनका निवास नासिका में है।
श्रोत्रोन्द्रिय के द्वारा श्रवण होता है इसके देवता दिक्‌ हैं। इससे शब्द का ज्ञान होता है।
जिह्ना के देवता वरुण हैं। इससे रस का ज्ञान होता है। इसीलिए जिह्ना को रसना भी कहा जाता है।
त्वक्‌ के देवता वायु हैं। इससे स्पर्श का ज्ञान होता है। त्वचा में वायु देवता का निवास हाता है।
हाथों के देवता इन्द्र हैं। ग्रहण, त्याग, बल व पराक्रम से सम्बद्ध सभी कार्य हाथों के द्वारा सम्पन्न होते हैं। हस्तेन्द्रिय के देवता इन्द्र का वास इसमें होता है।
चरणों के देवता विष्णु हैं। चरणों से धर्म की सिद्धि के लिए तीर्थयात्रा आदि सेवा धर्म होते हैं। 
वाणी के द्वारा समस्त शब्दों का उच्चारण होता है। जिह्ना में दो इन्द्रियां होती हैं-
एक रसना एवं दूसरी वाणी। 
वाणी में देवी सरस्वती का वास होता है, जबकि जीभ में वरुण देवता होते हैं।
मेद उपस्थ के देवता प्रजापति हैं। गुह्‌योन्द्रिय में आनन्द का अधिष्ठान होता है। इससे प्रजा अथवा संतति की सृष्टि होती है।
वायु-गुदा के देवता मित्रा हैं। इस इन्द्रिय से शरीर के मल का निःसरण होता है। इससे शरीर की शुद्धि होती है।
दस बाह्यन्द्रियां होती हैं। पांच ज्ञानेन्द्रियां एवं पांच कर्मेन्द्रियां होती हैं।
अन्तःकरण भीतरी इन्द्रियां हैं। ये चार हैं-
1. बुद्धि
2. अहंकार
3. मन
4. चित्त
बुद्धि इन्द्रिय के देवता ब्रह्मा हैं।
इसके द्वारा सांसारिक विषयों का तथा सम्पूर्ण विवेक का ज्ञान होता है। बुद्धि निर्मल होती है एवं उतना ही उसमें सूक्ष्म ज्ञान होता चला जाता है। 
अहंकार इन्द्रिय के देवता रुद्र हैं।
अंह तत्व के द्वारा अहं(मैं) का बोध हाता है, यह सत्त्व, रज, तम तीन प्रकार का होता है और सत्त्व प्रधान अहंकार तत्व से सोऽहं की भावना होती है। इस अहं के अभिमानी देवता रुद्र हैं।
मन के देवता चन्द्रमा हैं।
मन का धर्म संकल्प विकल्प है। सांसारिक और पारमार्र्थिक सभी अवस्थाओं में मन का बड़ा महत्त्व है। 
यह मन ही परम कारण है-मन एवं मनुष्याणां कारणं बन्धमोक्षयोः।
यही मन मननीय शक्ति बनने पर ईश्वर की प्राप्ति करा देता है और इसी मन के निग्रह करके के लिए ही व्रत, दान, नियम, यम, दम, धर्म, कथा तथा सत्कर्म  अनुष्ठित होते हैं। मन का एकाग्र हो जाना ही बड़ा योग है, समाधि है।
इस प्रकार मन बड़ा प्रबल है। उसका निग्रह कर लने से सांसारिक सुखों की उपलब्धि होती है और परतत्व की भी प्राप्ति हो जाती है। मन के अधिष्ठाता देवता चन्द्रमा हैं।
चित्त ही चैतन्य है। शरीर में जहां जो कुछ स्पंदन होता है, चलन होता है-यह सब चित्त के द्वारा होता है। 
सच्चिदानन्द में तीन शब्द हैं, उसमें से सत्‌ निराकार निगुर्ण ब्रह्म की जो इच्छा शक्ति(एकोऽहं बहु स्याम) है, वह इच्छा शक्ति चिद्विलास है। सत्‌ के बाद चित्त तत्त्व है, यही चैतन्यरूपा शक्ति है। इसी के द्वारा मनुष्य के शरीर में तत्व शक्तियों का आभिर्वाव होता है। 
ईश्वर ने ब्रह्माण्ड बनाया और वे सब देवता आकर उसमें सिथत हो गए, तब भी ब्रह्माण्ड में चेतना नहीं आयी और वह विराट् पुरुष उठा नहीं, किन्तु जब चित्त के देवता  क्षेत्राज्ञ ने चित्त के सहित हृदय में प्रवेश किया तो विराट् पुरुष तुरन्तर उठकर खड़ा हो गया।
इसी प्रकार समस्त विश्व को चेतन करने वाली यही चित्‌ शक्ति ही है। उपासना के द्वारा चित्त बन जाता है। आगमों में विशेषकर काश्मीर शिवाद्वेत दर्शन में इसी का स्पन्द-रूप में वर्णन किया गया है। इसी का चित्‌-शक्ति नाम है। तन्त्रों में इसी को शक्ति-रूप मानकर भगवती के नाम रूपों का वर्णन किया गया है। प्रकृति की शक्ति ही इसके देवता हैं। शक्ति की उपासना के  द्वारा शिव का ज्ञान-ब्रह्म का ज्ञान होता है।  शरीरस्थ देवता के ज्ञान से यह सिद्ध हो जाता है कि जगत्‌ शरीर में है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्‍पणी देकर अपने विचारों को अभिव्‍यक्‍त करें।

पत्राचार पाठ्यक्रम

ज्योतिष का पत्राचार पाठ्यक्रम

भारतीय ज्योतिष के एक वर्षीय पत्राचार पाठ्यक्रम में प्रवेश लेकर ज्योतिष सीखिए। आवेदन-पत्र एवं विस्तृत विवरणिका के लिए रु.50/- का मनीऑर्डर अपने पूर्ण नाम व पते के साथ भेजकर मंगा सकते हैं। सम्पर्कः डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर' ज्योतिष निकेतन 1065/2, शास्त्री नगर, मेरठ-250 005
मोबाईल-09719103988, 01212765639, 01214050465 E-mail-jyotishniketan@gmail.com

पुराने अंक

ज्योतिष निकेतन सन्देश
(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक)
स्टॉक में रहने तक मासिक पत्रिका के प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम, षष्‍ठ एवं सप्‍तम वर्ष के पुराने अंक 1920 पृष्ठ, सजिल्द, गूढ़ ज्ञान से परिपूर्ण और संग्रहणीय हैं। सातों पुस्तकें पत्र लिखकर मंगा सकते हैं। आप रू.1950/-का ड्राफ्‌ट या मनीऑर्डर डॉ.उमेश पुरी के नाम से बनवाकर ज्‍योतिष निकेतन, 1065, सेक्‍टर 2, शास्‍त्री नगर, मेरठ-250005 के पते पर भेजें अथवा उपर्युक्त राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अकाउंट नं. 32227703588 डॉ. उमेश पुरी के नाम में जमा करा सकते हैं। पुस्तकें रजिस्टर्ड पार्सल से भेज दी जाएंगी। किसी अन्य जानकारी के लिए नीचे लिखे फोन नं. पर संपर्क करें।
ज्‍योतिष निकेतन, मेरठ
0121-2765639, 4050465 मोबाईल: 09719103988

विज्ञापन