नए रूप रंग के साथ अपने प्रिय ब्‍लॉग पर आप सबका हार्दिक स्‍वागत है !

ताज़ा प्रविष्ठियां

संकल्प एवं स्वागत्

ज्योतिष निकेतन संदेश हिन्‍दी की मासिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित लेख इस ब्लॉग पर जीवन को सार्थक बनाने हेतु आपके लिए समर्पित हैं। आप इसके पाठक हैं, इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे। हमें विश्‍वास है कि आप सब ज्योतिष, हस्तरेखा, अंक ज्योतिष, वास्तु, अध्यात्म सन्देश, योग, तंत्र, राशिफल, स्वास्थ चर्चा, भाषा ज्ञान, पूजा, व्रत-पर्व विवेचन, बोधकथा, मनन सूत्र, वेद गंगाजल, अनुभूत ज्ञान सूत्र, कार्टून और बहुत कुछ सार्थक ज्ञान को पाने के लिए इस ब्‍लॉग पर आते हैं। ज्ञान ही सच्चा मित्र है और कठिन परिस्थितियों में से बाहर निकाल लेने में समर्थ है। अत: निरन्‍तर ब्‍लॉग पर आईए और अपनी टिप्‍पणी दीजिए। आपकी टिप्‍पणी ही हमारे परिश्रम का प्रतिफल है।

शनिवार, जून 12, 2010

मुकदमेबाजी से बचने का अनुभूत प्रयोग



     यदि आप मुकदमों से परेशान हैं और वे खतम होने का नाम ही नहीं लेते हैं तो आप सोचते हैं कि ऐसा क्या करुं कि इनसे बच पाऊं। यहां एक अनुभूत टोटका बता रहे हैं जिसके करने से आप लाभ उठा सकते हैं। प्रयोग इस प्रकार है।
1. अमावस के बाद के पहले सोमवार से यह प्रयोग प्रारम्भ करें।
2  सूर्यास्त के बाद शिव मंदिर जाकर 16 साबुत बादाम चढ़ा दें। बाद में उसमें से आठ बादाम वापिस ले आएं। 
2. इन बादाम को आभूषण बॉक्स या तिजोरी में संभाल कर रखें। यह तब तक करना है जब तक मुकदमेबाजी से मुक्ति न मिल जाए।
3. बाद में इनमें आठ बादाम मिलाकर उन्हें शिवजी के चरणों में चढ़ा दें।
    बादाम चढ़ाते समय मुकदमे से मुक्ति या उसमें जीत की भावना मन में रखनी चाहिए। 
    इस प्रयोग से आप भी लाभ उठाएं और दूजों को भी बताकर लाभ पहुंचाएं।

2 टिप्‍पणियां:

  1. The prayog for mukadmebaji -- you have given- will workout for wining the mukadma or it is only for getover. thanks

    उत्तर देंहटाएं
  2. यह प्रयोग मुकदमें से मुक्ति दिलाने के लिए हैं, इसके करने से यदि लाभ होता है तो उचित है। यहां प्रयोग वही दे रहे हैं जो दूसरे करके लाभ उठा चुके हैं। यह प्रयोग कितना फलीभूत होता है यह तो अपने भाग्‍य एवं ग्रहदशा पर निर्भर है।

    उत्तर देंहटाएं

टिप्‍पणी देकर अपने विचारों को अभिव्‍यक्‍त करें।

पत्राचार पाठ्यक्रम

ज्योतिष का पत्राचार पाठ्यक्रम

भारतीय ज्योतिष के एक वर्षीय पत्राचार पाठ्यक्रम में प्रवेश लेकर ज्योतिष सीखिए। आवेदन-पत्र एवं विस्तृत विवरणिका के लिए रु.50/- का मनीऑर्डर अपने पूर्ण नाम व पते के साथ भेजकर मंगा सकते हैं। सम्पर्कः डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर' ज्योतिष निकेतन 1065/2, शास्त्री नगर, मेरठ-250 005
मोबाईल-09719103988, 01212765639, 01214050465 E-mail-jyotishniketan@gmail.com

पुराने अंक

ज्योतिष निकेतन सन्देश
(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक)
स्टॉक में रहने तक मासिक पत्रिका के प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम, षष्‍ठ एवं सप्‍तम वर्ष के पुराने अंक 1920 पृष्ठ, सजिल्द, गूढ़ ज्ञान से परिपूर्ण और संग्रहणीय हैं। सातों पुस्तकें पत्र लिखकर मंगा सकते हैं। आप रू.1950/-का ड्राफ्‌ट या मनीऑर्डर डॉ.उमेश पुरी के नाम से बनवाकर ज्‍योतिष निकेतन, 1065, सेक्‍टर 2, शास्‍त्री नगर, मेरठ-250005 के पते पर भेजें अथवा उपर्युक्त राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अकाउंट नं. 32227703588 डॉ. उमेश पुरी के नाम में जमा करा सकते हैं। पुस्तकें रजिस्टर्ड पार्सल से भेज दी जाएंगी। किसी अन्य जानकारी के लिए नीचे लिखे फोन नं. पर संपर्क करें।
ज्‍योतिष निकेतन, मेरठ
0121-2765639, 4050465 मोबाईल: 09719103988

विज्ञापन