नए रूप रंग के साथ अपने प्रिय ब्‍लॉग पर आप सबका हार्दिक स्‍वागत है !

ताज़ा प्रविष्ठियां

संकल्प एवं स्वागत्

ज्योतिष निकेतन संदेश हिन्‍दी की मासिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित लेख इस ब्लॉग पर जीवन को सार्थक बनाने हेतु आपके लिए समर्पित हैं। आप इसके पाठक हैं, इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे। हमें विश्‍वास है कि आप सब ज्योतिष, हस्तरेखा, अंक ज्योतिष, वास्तु, अध्यात्म सन्देश, योग, तंत्र, राशिफल, स्वास्थ चर्चा, भाषा ज्ञान, पूजा, व्रत-पर्व विवेचन, बोधकथा, मनन सूत्र, वेद गंगाजल, अनुभूत ज्ञान सूत्र, कार्टून और बहुत कुछ सार्थक ज्ञान को पाने के लिए इस ब्‍लॉग पर आते हैं। ज्ञान ही सच्चा मित्र है और कठिन परिस्थितियों में से बाहर निकाल लेने में समर्थ है। अत: निरन्‍तर ब्‍लॉग पर आईए और अपनी टिप्‍पणी दीजिए। आपकी टिप्‍पणी ही हमारे परिश्रम का प्रतिफल है।

बुधवार, जून 02, 2010

स्त्री जन्म नक्षत्र फल-पं. चैतन्य(भाग 2)



    स्त्री का जन्म नक्षत्र और उसका फल जानने के लिए सर्वप्रथम उसकी कुण्डली से जन्मनक्षत्र ज्ञात कर लें और फिर अधोलिखित फल को समझना चाहिए। 27 नक्षत्रों का फल इस प्रकार है। 18 नक्षत्रों का फल बता चुके हैं, अब शेष नक्षत्रों के फल की चर्चा करते हैं।
     19-मूला नक्षत्र में स्त्री का जन्म हो तो वह अल्प सुखी, विधवा, दरिद्र, रोगिणी, अनेक शत्रुओं से युक्त, बंधुओं से हीन, कुसंगति में रहने वाली एवं शत्रुओं से पीड़ित होती है।
     20-पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र में स्त्री का जन्म हो तो  वह कुटुम्ब में प्रधान, परम्पराओं के अनुकूल चलने वाली, सत्य बोलने वाली, बली, बड़े नेत्रों वाली, सुन्दर, यशस्वी एवं समाज में सर्वप्रिय होती है।
    21-उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में स्त्री का जन्म हो तो वह सुन्दर, अग्रणी, अनेक प्रकार के धनों से युक्त, सन्तुष्ट, राज करने वाली एवं पतिप्रिया होती है।
    22-श्रवण नक्षत्र में स्त्री का जन्म हो तो वह रूपवती, विदुषी, शास्त्रों की जानकार, दानी, सत्य बोलने वाली, परोपकारी एवं समाज में सम्मान पाने वाली होती है।
     23-धनिष्ठा नक्षत्र में स्त्री का जन्म हो तो वह सदैव धार्मिक कार्यों में रत्‌ व पूजापाठ करने वाली, वेद व पुराण पढ़ने वाली, धन, वस्त्र व अन्न से युक्त, दानी, दया करनेवाली, अधिक पुण्य करने वाली, अच्छे गुणों से युक्त होती है।
    24-शतभिषा नक्षत्र में स्त्री का जन्म हो तो वह सुन्दर, दानी, दूजों के अनुकूल रहने वाली, सर्वप्रिय, समाज में सम्मानीया, सबका सम्मान करने वाली, व्यवहार कुशल व सबका हित करने वाली होती है।
    25-पूर्वाभाद्रपद नक्षत्र में स्त्री का जन्म हो तो वह धनी, सब सुखों से युक्त, दानी, पुत्र की इच्छा रखने वाली, सुसंगति करने वाली, विद्या से युक्त एवं धनियों में प्रधान होती है।
    26-उत्तराभाद्रपद नक्षत्र में स्त्री का जन्म हो तो वह सदैव पति के हित में अनुरक्त, क्षमाशीला, बड़ों का आदर करने वाली, गर्वहीन, पुत्र सुख से युक्त, विचारशील, विदुषी, सत्यपरायणा होती है।
    27-रेवती नक्षत्र में स्त्री का जन्म हो तो  वह समाज में पूजनीय व यशस्वी,  धार्मिक, अनेक रोगों से युक्त, स्वभाव से शुद्ध, व्रत व उपासना करने वाली, नौकर चाकरों से युक्त, शत्रुओं से हीन, सुन्दर एवं दर्शनीय होती है। 
स्त्री डिम्भ चक्रम्‌ विचार
     स्त्री डिम्भ विचार से शुभाशुभ का ज्ञान होता है। इसके लिए सूर्य के नक्षत्र से 
तीन नक्षत्र सिर में कल्पना करें।
सात नक्षत्र मुख में कल्पना करें।
चार-चार नक्षत्र स्तनों में कल्पना करें।
तीन नक्षत्र हृदय में कल्पना करें।
तीन नक्षत्र नाभि में कल्पना करें।
तीन नक्षत्र गुह्य स्थान में कल्पना करें।
     जब विचार करें तब देखें कि कन्या का जन्म नक्षत्र किस स्थान पर पड़ता है, उसके अनुसार फल का विचार करें।
     फल इस प्रकार समझना चाहिए-
     सिर में जन्म नक्षत्र हो तो-संताप होता है।
     मुख में जन्म नक्षत्र हो तो-सुख व स्वादिष्ट भोजन मिलता है।
     स्तनों में जन्म नक्षत्र हो तो-मनोनुकूल सुख व प्रेम मिले।
     हृदय में जन्म नक्षत्र हो तो-हर्ष होता है।
     नाभि में जन्म नक्षत्र हो तो-पति-चिन्ता व आनन्द होता है।
     गुह्य में जन्म नक्षत्र हो तो-अति कामेच्छा होती है। 
     इस प्रकार आप नक्षत्र से विचार कर सकते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्‍पणी देकर अपने विचारों को अभिव्‍यक्‍त करें।

पत्राचार पाठ्यक्रम

ज्योतिष का पत्राचार पाठ्यक्रम

भारतीय ज्योतिष के एक वर्षीय पत्राचार पाठ्यक्रम में प्रवेश लेकर ज्योतिष सीखिए। आवेदन-पत्र एवं विस्तृत विवरणिका के लिए रु.50/- का मनीऑर्डर अपने पूर्ण नाम व पते के साथ भेजकर मंगा सकते हैं। सम्पर्कः डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर' ज्योतिष निकेतन 1065/2, शास्त्री नगर, मेरठ-250 005
मोबाईल-09719103988, 01212765639, 01214050465 E-mail-jyotishniketan@gmail.com

पुराने अंक

ज्योतिष निकेतन सन्देश
(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक)
स्टॉक में रहने तक मासिक पत्रिका के प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम, षष्‍ठ एवं सप्‍तम वर्ष के पुराने अंक 1920 पृष्ठ, सजिल्द, गूढ़ ज्ञान से परिपूर्ण और संग्रहणीय हैं। सातों पुस्तकें पत्र लिखकर मंगा सकते हैं। आप रू.1950/-का ड्राफ्‌ट या मनीऑर्डर डॉ.उमेश पुरी के नाम से बनवाकर ज्‍योतिष निकेतन, 1065, सेक्‍टर 2, शास्‍त्री नगर, मेरठ-250005 के पते पर भेजें अथवा उपर्युक्त राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अकाउंट नं. 32227703588 डॉ. उमेश पुरी के नाम में जमा करा सकते हैं। पुस्तकें रजिस्टर्ड पार्सल से भेज दी जाएंगी। किसी अन्य जानकारी के लिए नीचे लिखे फोन नं. पर संपर्क करें।
ज्‍योतिष निकेतन, मेरठ
0121-2765639, 4050465 मोबाईल: 09719103988

विज्ञापन