नए रूप रंग के साथ अपने प्रिय ब्‍लॉग पर आप सबका हार्दिक स्‍वागत है !

ताज़ा प्रविष्ठियां

संकल्प एवं स्वागत्

ज्योतिष निकेतन संदेश हिन्‍दी की मासिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित लेख इस ब्लॉग पर जीवन को सार्थक बनाने हेतु आपके लिए समर्पित हैं। आप इसके पाठक हैं, इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे। हमें विश्‍वास है कि आप सब ज्योतिष, हस्तरेखा, अंक ज्योतिष, वास्तु, अध्यात्म सन्देश, योग, तंत्र, राशिफल, स्वास्थ चर्चा, भाषा ज्ञान, पूजा, व्रत-पर्व विवेचन, बोधकथा, मनन सूत्र, वेद गंगाजल, अनुभूत ज्ञान सूत्र, कार्टून और बहुत कुछ सार्थक ज्ञान को पाने के लिए इस ब्‍लॉग पर आते हैं। ज्ञान ही सच्चा मित्र है और कठिन परिस्थितियों में से बाहर निकाल लेने में समर्थ है। अत: निरन्‍तर ब्‍लॉग पर आईए और अपनी टिप्‍पणी दीजिए। आपकी टिप्‍पणी ही हमारे परिश्रम का प्रतिफल है।

सोमवार, मई 17, 2010

पूजा अवश्य करनी चाहिए -व्रतानन्द शास्त्री



     आप पूजा करते हैं या नहीं। यदि आप पूजा नहीं करते हैं तो करनी चाहिए क्योंकि पूजा से आप दिन भर के लिए स्वयं को प्रभु कृपा से ओतप्रोत करते हैं। इससे आप में नई ऊर्जा और नए विश्वास का संचार होता है।  
     पूजा के लिए आपके पास समय नहीं है तो आप चाहे परम शक्ति का ध्यान दो मिनट करें मन से करें जिससे आप उसकी कृपा से वंचित न रहें। आपको पूजा की इस सरल रीति को अपनाना चाहिए जिसमें अल्प समय लगेगा।
पूजा की सरल विधि 
     आप सर्वप्रथम गुरु को स्मरण कर सकते हैं-ऊँ तस्में श्री गुरुवे नमः। 
     सर्वप्रथम पूज्य देव श्री गणेश जी का स्मरण करते हुए कह सकते हैं-ऊँ श्री गणेशाय नमः।
     जन्म देने वाली माता का स्मरण करते हुए कह सकते हैं-ऊँ श्री मातायै नमः। 
     पिता को स्मरण करते हुए कह सकते हैं-ऊँ श्री पित्रो नमः। 
     आद्य शक्ति माता का स्मरण करते हुए कह सकते हैं-ऊँ आद्य शक्ति माता श्री दुर्गाय नमः। 
     धनदात्री माता को स्मरण कर कह सकते हैं-ऊँ श्री लक्ष्मी सदा सहाय नमः। 
     इसके बाद आप शिव का स्मरण करते हुए कह सकते हैं-ऊँ नमः शिवाय।
     इसके बाद कृष्ण को स्मरण करते हुए कह सकते हैं-ऊँ नमोभगवते वासुदेवाय । 
     राम का स्मरण करते हुए कह सकते हैं-ऊँ श्री रामाय नमः। 
    अन्‍त में क्षमा याचना करते हुए कह सकते हैं-हे प्रभु मुझसे जो गलती हो गई हो क्षमा करना। प्रभु तेरा ही सहारा है, तू ही पालन हार है। तुझ बिन कुछ नहीं है इस जगत्‌ में। 
      उक्त मात्र से आप स्वयं में एक नई शक्ति का संचार अनुभव करेंगे और दिन भर के लिए स्वयं को निष्कंटक रहित बना सकेंगे क्योंकि आप परमशक्ति का आशीष जो प्राप्त कर चुके होंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्‍पणी देकर अपने विचारों को अभिव्‍यक्‍त करें।

पत्राचार पाठ्यक्रम

ज्योतिष का पत्राचार पाठ्यक्रम

भारतीय ज्योतिष के एक वर्षीय पत्राचार पाठ्यक्रम में प्रवेश लेकर ज्योतिष सीखिए। आवेदन-पत्र एवं विस्तृत विवरणिका के लिए रु.50/- का मनीऑर्डर अपने पूर्ण नाम व पते के साथ भेजकर मंगा सकते हैं। सम्पर्कः डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर' ज्योतिष निकेतन 1065/2, शास्त्री नगर, मेरठ-250 005
मोबाईल-09719103988, 01212765639, 01214050465 E-mail-jyotishniketan@gmail.com

पुराने अंक

ज्योतिष निकेतन सन्देश
(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक)
स्टॉक में रहने तक मासिक पत्रिका के प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम, षष्‍ठ एवं सप्‍तम वर्ष के पुराने अंक 1920 पृष्ठ, सजिल्द, गूढ़ ज्ञान से परिपूर्ण और संग्रहणीय हैं। सातों पुस्तकें पत्र लिखकर मंगा सकते हैं। आप रू.1950/-का ड्राफ्‌ट या मनीऑर्डर डॉ.उमेश पुरी के नाम से बनवाकर ज्‍योतिष निकेतन, 1065, सेक्‍टर 2, शास्‍त्री नगर, मेरठ-250005 के पते पर भेजें अथवा उपर्युक्त राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अकाउंट नं. 32227703588 डॉ. उमेश पुरी के नाम में जमा करा सकते हैं। पुस्तकें रजिस्टर्ड पार्सल से भेज दी जाएंगी। किसी अन्य जानकारी के लिए नीचे लिखे फोन नं. पर संपर्क करें।
ज्‍योतिष निकेतन, मेरठ
0121-2765639, 4050465 मोबाईल: 09719103988

विज्ञापन