नए रूप रंग के साथ अपने प्रिय ब्‍लॉग पर आप सबका हार्दिक स्‍वागत है !

ताज़ा प्रविष्ठियां

संकल्प एवं स्वागत्

ज्योतिष निकेतन संदेश हिन्‍दी की मासिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित लेख इस ब्लॉग पर जीवन को सार्थक बनाने हेतु आपके लिए समर्पित हैं। आप इसके पाठक हैं, इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे। हमें विश्‍वास है कि आप सब ज्योतिष, हस्तरेखा, अंक ज्योतिष, वास्तु, अध्यात्म सन्देश, योग, तंत्र, राशिफल, स्वास्थ चर्चा, भाषा ज्ञान, पूजा, व्रत-पर्व विवेचन, बोधकथा, मनन सूत्र, वेद गंगाजल, अनुभूत ज्ञान सूत्र, कार्टून और बहुत कुछ सार्थक ज्ञान को पाने के लिए इस ब्‍लॉग पर आते हैं। ज्ञान ही सच्चा मित्र है और कठिन परिस्थितियों में से बाहर निकाल लेने में समर्थ है। अत: निरन्‍तर ब्‍लॉग पर आईए और अपनी टिप्‍पणी दीजिए। आपकी टिप्‍पणी ही हमारे परिश्रम का प्रतिफल है।

सोमवार, मई 31, 2010

मणिबन्ध रेखाएं-बाबा ज्ञानदेव तपस्वी



    हाथ के मूल भाग में कलाई के ऊपरी भाग में मणिबन्ध होता है, यह कई रेखाओं की सहायता से घुमावदार रेखा होती है। यह वलयाकार होता है। मणिबन्ध में तीन बल होने से लम्बी आयु का पता चलता है। एक बल 30वर्ष का माना जाता है। पहले से स्वास्थ्य, दूसरे से धन और तीसरे से पुत्र व स्वभाव का ज्ञान होता है। तीन से अधिक रेखायें होने से शुभ नहीं माना जाता है।
    मणिबन्ध में अनेक खण्ड होने से व्यक्ति कंजूस होता है तथा समाज में सामान्य श्रेणी की स्थिति होती है।
तीन पर्व एक समान हों तो आयु 85वर्ष मानी जाती है। किसी मण्बिन्ध पर कोई अन्य रेखा आकर कोण बनाए तो परिवार के किसी सम्बन्धी की मृत्यु पर उसका यश बढ़ता है। वृद्धावस्था अच्छी व्यतीत होती है।
मणिबन्ध एक रेखा की हो तो अल्पायु समझना चाहिए। दो मणिबन्ध रेखाएं हों तो लगभग साठ वर्ष होती है पर स्वास्थ्य खराब रहता है।
    मणिबन्ध की प्रथम रेखा वलयकार हो और उसमें छोटे-छोटे द्वीप हों तो व्यक्ति अपने पराक्रम से सफल होता है।
    तीन रेखाओं का मणिबन्ध हो तथा उसमें त्रिभुज हो तो वृद्धावस्था में परायी सम्पत्ति या धन मिलता है।
    पहला मणिबन्ध हथेली में ऊपर की ओर धनुषाकृति हो जाय तो संतान प्रतिबन्धक योग बनता है।
    मणिबन्ध रेखा जंजीरनुमा होने से व्यक्ति मेहनती होता है।
    मणिबन्ध से कोई रेखा चन्द्र पर्वत की ओर जाये तो व्यक्ति नौसेना या हवाई सेना में जाने का इच्छुक होता है।
    मणिबन्ध रक्त वर्ण की हो तथा जंजीरनुमा होने से व्यक्ति वाचाल होता है तथा आर्थिक हानि होती है।
    तीन मणिबन्ध रेखाएं स्वास्थ्य, सम्पत्ति एवं सुख की प्रतीक हैं।
    तीन मणिबन्ध को काटने वाली रेखा अनामिका तक जाए तो व्यक्ति निश्चित उद्धेश्य को पूर्ण करने के लिए प्रभावशाली व्यक्ति की सहायत लेता है और उसे पूर्ण करने में जीजान एक कर देता है। यदि रेखा गुरुपर्वत तक जाए तो व्यक्ति किसी प्रभावकारी व्यक्ति के सहयोग से उन्नति करता है। यदि बुध पर्वत तक जाए तो व्यक्ति लेखन से धन और यश कमाता है और वृद्धावस्था अच्छी बीतती है।
    मणिबन्ध अधूरी हो तथा कुछ रेखायें टूटकर शुक्र पर्वत पर जायें तो आजीविका में कुछ कठिनाई होती है।
    दो मणिबन्ध चौड़े और मोटे हों तो व्यक्ति को परिवार की चिंता रहती है तथा स्थान बदलने से पैसा कमा सकता है। ऐसे व्यक्ति अच्छी आय करते हैं पर स्वयं के पास कुछ नहीं होता।
    तीन मणिबन्ध कहीं से भी टूटे हुए न हों तो व्यक्ति किसी तकनीकी ज्ञान में दक्ष होता है। इनमें कुछ जल्दबाजी एवं दूसरे की भलाई की भावना होती है।
    मणिबन्ध से आयु रेखा को काटने वाली रेखा जन्म स्थान से दूर मृत्यु कराती है।
    मणिबन्ध की कोई रेखा बुध पर्वत तक जाने से अनायास धन प्राप्ति होती है।
    मणिबन्ध से निकल कर कोई रेखा सूर्य स्थान तक जाने से व्यक्ति को दूसरे की मदद से लक्ष्मी प्राप्त होती है तथा सुखी रहता है।
    खुरदरे हाथों में दो मणिबन्ध रेखाएं अच्छी शिक्षा का संकेत नहीं देती हैं और उस व्यक्ति में जिज्ञासा अधिक नहीं होती है।
    दो मणिबन्ध चौड़े और मोटे हों तो व्यक्ति को परिवार की चिन्ता रहती है। वह स्थान परिवर्तन के उपरान्त ही पैसा कमाता है। वह अच्छी आय करेगा परन्तु उसके अपने पास कुछ नहीं रहेगा।
तीन मणिबन्ध कहीं से टूटे हुए न हों तो व्यक्ति किसी तकनीकी ज्ञान में कुशल होता है और दूसरे की सहायता करने वाला होता है। 
    जब मणिबन्ध में यव न हो और जंजीरनुमा न हो और टूटी हुई भी न हो एवं एक काली रेखा में हो तो व्यक्ति को आजीविका के लिए कई स्थान बदलने पड़ते हैं और अत्यधिक संघर्ष करना पड़ता है। चार मणिबन्ध उचित नहीं होते हैं।
    यदि मणिबन्ध रेखा अर्द्धवर्तुलाकार और कहीं आड़ी गई होती है तो प्रत्येक का फल भिन्न होता है। 
मणिबन्ध रेखा का अध्ययन करके भविष्य का ज्ञान प्राप्त करने में सहायक है। इसे आप प्रयोग में लाकर इससे भविष्य ज्ञान में प्रवीण हो सकते हैं।

1 टिप्पणी:

टिप्‍पणी देकर अपने विचारों को अभिव्‍यक्‍त करें।

पत्राचार पाठ्यक्रम

ज्योतिष का पत्राचार पाठ्यक्रम

भारतीय ज्योतिष के एक वर्षीय पत्राचार पाठ्यक्रम में प्रवेश लेकर ज्योतिष सीखिए। आवेदन-पत्र एवं विस्तृत विवरणिका के लिए रु.50/- का मनीऑर्डर अपने पूर्ण नाम व पते के साथ भेजकर मंगा सकते हैं। सम्पर्कः डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर' ज्योतिष निकेतन 1065/2, शास्त्री नगर, मेरठ-250 005
मोबाईल-09719103988, 01212765639, 01214050465 E-mail-jyotishniketan@gmail.com

पुराने अंक

ज्योतिष निकेतन सन्देश
(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक)
स्टॉक में रहने तक मासिक पत्रिका के प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम, षष्‍ठ एवं सप्‍तम वर्ष के पुराने अंक 1920 पृष्ठ, सजिल्द, गूढ़ ज्ञान से परिपूर्ण और संग्रहणीय हैं। सातों पुस्तकें पत्र लिखकर मंगा सकते हैं। आप रू.1950/-का ड्राफ्‌ट या मनीऑर्डर डॉ.उमेश पुरी के नाम से बनवाकर ज्‍योतिष निकेतन, 1065, सेक्‍टर 2, शास्‍त्री नगर, मेरठ-250005 के पते पर भेजें अथवा उपर्युक्त राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अकाउंट नं. 32227703588 डॉ. उमेश पुरी के नाम में जमा करा सकते हैं। पुस्तकें रजिस्टर्ड पार्सल से भेज दी जाएंगी। किसी अन्य जानकारी के लिए नीचे लिखे फोन नं. पर संपर्क करें।
ज्‍योतिष निकेतन, मेरठ
0121-2765639, 4050465 मोबाईल: 09719103988

विज्ञापन