नए रूप रंग के साथ अपने प्रिय ब्‍लॉग पर आप सबका हार्दिक स्‍वागत है !

ताज़ा प्रविष्ठियां

संकल्प एवं स्वागत्

ज्योतिष निकेतन संदेश हिन्‍दी की मासिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित लेख इस ब्लॉग पर जीवन को सार्थक बनाने हेतु आपके लिए समर्पित हैं। आप इसके पाठक हैं, इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे। हमें विश्‍वास है कि आप सब ज्योतिष, हस्तरेखा, अंक ज्योतिष, वास्तु, अध्यात्म सन्देश, योग, तंत्र, राशिफल, स्वास्थ चर्चा, भाषा ज्ञान, पूजा, व्रत-पर्व विवेचन, बोधकथा, मनन सूत्र, वेद गंगाजल, अनुभूत ज्ञान सूत्र, कार्टून और बहुत कुछ सार्थक ज्ञान को पाने के लिए इस ब्‍लॉग पर आते हैं। ज्ञान ही सच्चा मित्र है और कठिन परिस्थितियों में से बाहर निकाल लेने में समर्थ है। अत: निरन्‍तर ब्‍लॉग पर आईए और अपनी टिप्‍पणी दीजिए। आपकी टिप्‍पणी ही हमारे परिश्रम का प्रतिफल है।

शुक्रवार, मई 14, 2010

प्राणायाम स्वास्थ्यवर्धक होता है।-योगानन्द स्वामी



यह जान लें कि प्राणायाम से बल पुरुषार्थ बढ़कर बुद्धि तीव्र व सूक्ष्म हो जाती है। शरीर में वीर्य वृद्धि हो कर स्थिर बल, पराक्रम और जितेंद्र्रियता होती है। चित्त निर्मल होकर उपासना में स्थिर होता है। कुल मिलाकर प्राणायाम सुव्यवस्थित ढंग से करें तो यह स्वास्थ्यवर्धक है। यह एक प्रकार की अलौकिक क्रिया है। प्राणायाम एक उपचयात्मक प्रक्रिया है जिससे हमारा रक्त परिसंचरण संतुलित व सुचारू होता है। प्राणायाम में श्वास प्रक्रिया सुचारू रूप से हो जाती है।
प्राणायाम से उदरगत अवयवों व आवश्यक रक्त नलिकाओं में कम्पन उत्पन्न होती है व उससे आपका उदर संबंधी परेशानी दूर होती है। कपाल भाति प्राणायाम या भस्त्रिका प्राणायाम से न केवल धमनीगत अवरोध दूर होते हैं अपितु इससे उनके पुनः उत्पन्न होने की संभावना भी समाप्त हो जाती है। यदि इसे नियमित प्राणायाम किया जाए तो संवेगात्मक तन्त्र को लाभ होता है।
प्राणायाम द्वारा अन्तःस्रावी ग्रन्थियों का कार्य सन्तुलित व सुचारू होता है।
प्राण व मन का घनिष्ठ संबंध है। प्राणायाम करने से मन स्वतः एकाग्र हो जाता है।
प्राणायाम करने से मन के ऊपर आया हुआ उसत, अविद्या व क्लेश रूपी तमस का आवरण क्षीण हो जाता है। शुद्ध हुए मन में धारणा स्वतः होने लगती है और फिर योग की उन्नत स्थितियों ध्यान व समाधि की ओर बढ़ा जाता है।
शरीर में श्वास गति, हृदय गति तथा वायुतन्त्र की गति का एक मजबूत संबध है। श्वास गति कम होने पर इनका पारस्परिक बंधन और मजबूत होता है। ऐसे में आत्मिक संबंध मजबूत होने से मानसिक शान्ति मिलती है। उच्च रक्तचाप सामान्य हो जाता है।
प्राणायाम से अध्यात्मिक उन्नति व शारीरिक निरोग के लिए सबसे सरल व सस्ता साधन है। इसके प्रयोग से कोई भी अपना स्वास्थ्य ठीक रख सकता है।
स्थूलतः प्राणायाम श्वास-प्रश्वास के व्यायाम की एक पद्धति है, जिससे फेफड़े बलिष्ट होते हैं। रक्त संचार की व्यवस्था सुधरने से समग्र आरोग्य प्राप्त होता है और दीर्घायु लाभ होता है। फेफड़े ठीक कार्य करते हैं तो प्रत्येक कोशिका में जीवनीय ऊर्जा की उत्पत्ति ऑक्सीजन के द्वारा होती रहती है। यदि भरपूर ऑक्सीजन न मिल तो कोशिकाओं में वैषम्य और व्याधि होती है।
अधिकांश लोग गहरी श्वास लेने के अभ्यस्त नहीं होते जिससे फेफड़ों का लगभग एक चौथाई भाग ही कार्य करता है और शेष तीन चौथाई भाग निष्क्रिय पड़ा रहता है। फेफड़ों में मधुमक्खी के छत्ते सदृश सात करोड़ तीस लाख स्पंज जैसे कोष्ठक होते हैं। सामान्य श्वास लेने पर लगभग दो करोड़ छिद्रों में ही प्राणवायु का संचार होता है और शेष कोष्ठकों तक प्राणवायु नहीं पहुंच पाती है। इसी कारण उनमें जड़ता रूप विजातीय द्रव्य जमने लगता है और शरीर की प्रतिरोधात्मक क्षमता भी कम हो जाती है और टीबी जैसा भंयकर रोग भी हो जाता है।
जब फेफड़े अधूरे होंगे तो शरीर की रक्त शुद्धि पर अत्यन्त कुप्रभाव पड़ेगा जिसके फलस्वरूप अकाल मृत्यु भी उपस्थित रह सकती है। इससे स्पष्ट है कि प्राणायाम की महत्ता सर्वपरि है। विभिन्न रोगों का निवारण प्राण वायु नियमन प्राणायाम द्वारा करने से हो सकता है।
मानव प्राण वायु के नियन्त्राण द्वारा सुखी एवं आनन्द पूर्ण जीवन जी सकता है। जीवन में एक व्यवस्था भी आ जाती है। मानव दीर्घजीवी बनकर जीवन का वास्तविक आनन्द प्राप्त किया करता है। प्राणायाम करने से दीर्घश्वसन का अभ्यास भी स्वतः हो जाता है। प्राणायाम करने वाला अपने श्वासों का कम प्रयोग करता है, इसीलिए वह दीर्घायु भी होता है। जो प्राणी जितने कम श्वास लेता है उतना ही दीर्घजीवी होता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्‍पणी देकर अपने विचारों को अभिव्‍यक्‍त करें।

पत्राचार पाठ्यक्रम

ज्योतिष का पत्राचार पाठ्यक्रम

भारतीय ज्योतिष के एक वर्षीय पत्राचार पाठ्यक्रम में प्रवेश लेकर ज्योतिष सीखिए। आवेदन-पत्र एवं विस्तृत विवरणिका के लिए रु.50/- का मनीऑर्डर अपने पूर्ण नाम व पते के साथ भेजकर मंगा सकते हैं। सम्पर्कः डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर' ज्योतिष निकेतन 1065/2, शास्त्री नगर, मेरठ-250 005
मोबाईल-09719103988, 01212765639, 01214050465 E-mail-jyotishniketan@gmail.com

पुराने अंक

ज्योतिष निकेतन सन्देश
(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक)
स्टॉक में रहने तक मासिक पत्रिका के प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम, षष्‍ठ एवं सप्‍तम वर्ष के पुराने अंक 1920 पृष्ठ, सजिल्द, गूढ़ ज्ञान से परिपूर्ण और संग्रहणीय हैं। सातों पुस्तकें पत्र लिखकर मंगा सकते हैं। आप रू.1950/-का ड्राफ्‌ट या मनीऑर्डर डॉ.उमेश पुरी के नाम से बनवाकर ज्‍योतिष निकेतन, 1065, सेक्‍टर 2, शास्‍त्री नगर, मेरठ-250005 के पते पर भेजें अथवा उपर्युक्त राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अकाउंट नं. 32227703588 डॉ. उमेश पुरी के नाम में जमा करा सकते हैं। पुस्तकें रजिस्टर्ड पार्सल से भेज दी जाएंगी। किसी अन्य जानकारी के लिए नीचे लिखे फोन नं. पर संपर्क करें।
ज्‍योतिष निकेतन, मेरठ
0121-2765639, 4050465 मोबाईल: 09719103988

विज्ञापन