नए रूप रंग के साथ अपने प्रिय ब्‍लॉग पर आप सबका हार्दिक स्‍वागत है !

ताज़ा प्रविष्ठियां

संकल्प एवं स्वागत्

ज्योतिष निकेतन संदेश हिन्‍दी की मासिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित लेख इस ब्लॉग पर जीवन को सार्थक बनाने हेतु आपके लिए समर्पित हैं। आप इसके पाठक हैं, इसके लिए हम आपके आभारी रहेंगे। हमें विश्‍वास है कि आप सब ज्योतिष, हस्तरेखा, अंक ज्योतिष, वास्तु, अध्यात्म सन्देश, योग, तंत्र, राशिफल, स्वास्थ चर्चा, भाषा ज्ञान, पूजा, व्रत-पर्व विवेचन, बोधकथा, मनन सूत्र, वेद गंगाजल, अनुभूत ज्ञान सूत्र, कार्टून और बहुत कुछ सार्थक ज्ञान को पाने के लिए इस ब्‍लॉग पर आते हैं। ज्ञान ही सच्चा मित्र है और कठिन परिस्थितियों में से बाहर निकाल लेने में समर्थ है। अत: निरन्‍तर ब्‍लॉग पर आईए और अपनी टिप्‍पणी दीजिए। आपकी टिप्‍पणी ही हमारे परिश्रम का प्रतिफल है।

गुरुवार, अप्रैल 29, 2010

दूषित पानी करे बीमार


स्वास्थ्य चर्चा
दूषित पानी करे बीमार 
लेखक : डॉ. राजीव गुप्ता, एम.बी.बी.एस, एम.डी.
यह जान लें कि स्वास्थ्य का पानी से सीधा सम्बन्ध है। यदि असावधानी होती है तो रोग शरीर को घेरने में देर नहीं लगाते। यदि नियमित स्वच्छ पानी पिया जाए तो कई प्रकार के रोगों से बचा जा सकता है। 
दूषित पानी रोगों का निमन्त्रण
यदि पीने का पानी दूषित हो तो कई रोग हो सकते हैं। ये रोग गंदे पानी में रहने वाले जीवाणुओं के कारण होते हैं। दूषित पानी से बैक्टीरियल इंफेक्शन हो सकता है जिसके कारण हैजा, टाइफाइड, पेचिश एवं वायरल इंफेक्शन के कारण हेपेटाइटिस ए, फ्‌लू, कॉलरा, टायफाइड व पीलिया जैसी खतरनाक रोग हो सकते हैं। ये रोग दूषित पानी, हाथ मिलाने, गले लगने, एक दूसरे का रूमाल उपयोग में लाने व एक साथ खाना खाने से फैलती हैं। आईफ्‌लू व नेत्र आना जैसे रोग भी हो जाते हैं। 
ऐसे में क्या करें?
दूषित पानी कदापि न पीएं। पानी उबाल कर या फिल्टर पानी ही पीएं। प्रत्येक दिन आठ से दस गिलास तक पानी पीना चाहिए। शरीर में पर्याप्त पानी होने से थकान का अनुभव नहीं रहता है और पर्याप्त ऊर्जा रहती है। पानी पीने से शरीर में फाइबर की मात्रा भी पर्याप्त मात्रा में रहती है और रोग प्रतिरोधात्मक क्षमता बढ़ती है अर्थात्‌ रोग होने का खतरा कम होता है। 
उचित मात्रा में पानी पीने से अनावश्यक चर्बी जमा नहीं होती है। एलर्जी होने की आशंका कम हो जाती है। फेफड़े में संक्रमण, अस्थमा और आंत की बीमारियां नहीं होती हैं। पथरी होने का खतरा भी नहीं रहता है। पर्याप्त पानी पीने वाले अक्सर सर्दी, जुकाम जैसे रोगों से भी बचे रहते हैं। 
यदि किसी व्यक्ति को बार-बार उल्टी व दस्त हो रहे हों तो हो सकता है कि इसका कारण पिया गया प्रदूषित पानी भी हो सकता है। 
ऐसे में शरीर में दुर्बलता आ जाती है। पीड़ित को ओआरएस का घोल देना चाहिए।  अपने चिकित्सक से तुरन्त सलाह लेनी चाहिएं। वरना डीहाइड्रेशन व पेटदर्द की भी शिकायत हो सकती है।
कई बार त्वचा संबंधी रोग का कारण भी पानी हो सकता है। यदि आप चाहते हैं कि दूषित पानी के कारण आपका परिवार बीमार न पड़े तो आपको चाहिए कि घर में पानी उबाल कर पीएं या पानी की गुणवता के लिए वाटर फिल्टर लगाएं। बाजार में कई सस्ते वाटर फिल्टर उपलब्ध हैं। 
खाना खाने से पूर्व हाथ अवश्य धोने चाहिएं। खाने-पीने के बर्तनों की सफाई नियमित करनी चाहिए। रखे हुए साफ बर्तनों पर भी बैक्टीरिया का हमला हो सकता है, इसलिए उसमें कुछ खाने से पूर्व उसे भली प्रकार धो लें। घर के आसपास पानी एकत्र न होने दें। खुला रखा पानी बिना उबाले न पीएं।
पानी को जितना साफ एवं स्वच्छ रखेंगे और उबाल कर पीएंगे तो पानी के कारण कभी बीमार नहीं पड़ेंगे। कहते हैं पानी ही जीवन है पर यदि पानी ही दूषित होगा तो पानी जीवन नहीं रोग का कारण बन जाएगा और मृत्यु तुल्य कष्ट तक हो सकता है। पानी की गुणवत्ता पर ध्यान दें और अनेक रोगों को पास फटकने ही न दें।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्‍पणी देकर अपने विचारों को अभिव्‍यक्‍त करें।

पत्राचार पाठ्यक्रम

ज्योतिष का पत्राचार पाठ्यक्रम

भारतीय ज्योतिष के एक वर्षीय पत्राचार पाठ्यक्रम में प्रवेश लेकर ज्योतिष सीखिए। आवेदन-पत्र एवं विस्तृत विवरणिका के लिए रु.50/- का मनीऑर्डर अपने पूर्ण नाम व पते के साथ भेजकर मंगा सकते हैं। सम्पर्कः डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर' ज्योतिष निकेतन 1065/2, शास्त्री नगर, मेरठ-250 005
मोबाईल-09719103988, 01212765639, 01214050465 E-mail-jyotishniketan@gmail.com

पुराने अंक

ज्योतिष निकेतन सन्देश
(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक)
स्टॉक में रहने तक मासिक पत्रिका के प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम, षष्‍ठ एवं सप्‍तम वर्ष के पुराने अंक 1920 पृष्ठ, सजिल्द, गूढ़ ज्ञान से परिपूर्ण और संग्रहणीय हैं। सातों पुस्तकें पत्र लिखकर मंगा सकते हैं। आप रू.1950/-का ड्राफ्‌ट या मनीऑर्डर डॉ.उमेश पुरी के नाम से बनवाकर ज्‍योतिष निकेतन, 1065, सेक्‍टर 2, शास्‍त्री नगर, मेरठ-250005 के पते पर भेजें अथवा उपर्युक्त राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अकाउंट नं. 32227703588 डॉ. उमेश पुरी के नाम में जमा करा सकते हैं। पुस्तकें रजिस्टर्ड पार्सल से भेज दी जाएंगी। किसी अन्य जानकारी के लिए नीचे लिखे फोन नं. पर संपर्क करें।
ज्‍योतिष निकेतन, मेरठ
0121-2765639, 4050465 मोबाईल: 09719103988

विज्ञापन